खबरें

ऑस्ट्रेलिया महामारी को लेकर राजनीतिक कार्रवाई बंद करे - चीन

 विश्व स्वास्थ्य महासभा में कोविड-19 महामारी को लेकर चर्चित प्रस्ताव मसौदा चीन के रूख के अनुकूल है, जिससे विभिन्न देशों की व्यापक आम सहमति जाहिर हुई। यह ऑस्ट्रेलिया द्वारा कुछ समय पूर्व प्रस्तुत महामारी से संबंधित तथाकथित“स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय समीक्षा”से बिलकुल अलग है।

टिप्पणी:अमेरिका द्वारा "ताइवान" मुद्दा चलाया जाने की साजिश विफल होगी

73वें विश्व चिकित्सा सम्मेलन का आयोजन 18 और 19 मई को हुआ और इसमें भाग लेने के लिए ताइवान को एक बार फिर अस्वीकृत किया गया। जिससे यह साबित है कि अमेरिकी राजनीतिज्ञों द्वारा ताइवान को विश्व चिकित्सा सम्मेलन में शामिल कराया जाने की साजिश एक बार फिर विफल हुई।

चीन और डब्ल्यूएचओ के बीच सहयोग बहुमुखी है

चीनी राज्य परिषद के संयुक्त रोकथाम और नियंत्रण तंत्र ने 19 मई को आयोजित न्यूज ब्रीफिंग में कोविड-19 की रोकथाम और नियंत्रण पर अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के बारे में जानकारी दी। चीनी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के महामारी संबंधी प्रमुख विशेषज्ञ वू जूनयो ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप के बाद से चीन और डब्ल्यूएचओ के बीच सहयोग बहुमुखी है।

कोविड-19 को लेकर डब्ल्यूएचओ को प्रस्तुत प्रस्ताव मसौदे के पारित होने की उम्मीद - चीन

​चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को कोरोनावायरस निमोनिया की महामारी से जुड़े प्रस्ताव मसौदे संबंधी विचार विमर्श में सक्रिय रूप से भाग लिया। आशा है कि इस प्रस्ताव को 73वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा में पारित होगा और इसका व्यापक व सटीक तौर पर कार्यान्वयन किया जाएगा।

चीन नहीं, अमेरिका ने महामारी के बारे में "झूठा प्रचार अभियान" किया : चीनी विदेश प्रवक्ता

​चीनी विदेश प्रवक्ता चाओ ली चैन ने 19 मई को प्रेस को बताया कि चीन नहीं, पर अमेरिका ने महामारी के बारे में "झूठा प्रचार अभियान" किया है।

चीनी चिकित्सा दल ने अल्जीरियाई स्वास्थ्य मंत्रालय का दौरा किया

चीनी चिकित्सा दल ने अल्जीरिया के स्वास्थ्य मंत्रालय का दौरा किया, जहां 20 चीनी चिकित्सकों ने अल्जीरियाई स्वास्थ्य अधिकारियों से मुलाकात की।

अमेरिका में महामारी की रोकथाम और नियंत्रण एक आपदा ही है : अमेरिकी महामारी वैज्ञानिक

अमेरिकी अंतर्राष्ट्रीय विकास एजेंसी के महामारी वैज्ञानिक डेनिस कैरोल ने हाल ही में हमारे संवाददाता को इंटरव्यू देते हुए कहा कि जल्दी पर्याप्त ध्यान देने और कारगर कदम उठाने में विफल होने के कारण से अमेरिका दुनिया का महामारी फैलने का सबसे गंभीर देश बन गया है। इसमें अमेरिकी सरकार की दुर्व्यवहार और खराब प्रदर्शन होने की जिम्मेदारी अपरिहार्य है।

डोनाल्ड ट्रम्प ने सदैव सियासत को विज्ञान से ऊपर रखा है

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प सदैव सियासत को विज्ञान से ऊपर रखते हैं और टीके के प्रति वे भी संदेहपूर्ण रुख अपनाते हैं। यहां तक कि उन्होंने जलवायु परिवर्तन को चीन की "धोखेबाजी" कहा। राष्ट्रपति बनने के बाद उनके रुख में कोई बदलाव नहीं आया। हाल ही में ट्रम्प ने अमेरिका के शीर्ष वायरस विशेषज्ञ रिक ब्राइट को बर्खास्त करने का फैसला लिया। जिससे पूरे वैज्ञानिक समुदाय को झटका लगा।

अमेरिकी सरकार की पांच खरब अमेरिकी डॉलर आर्थिक सहायता फंड का कुप्रबंधन

​अमेरिकी कांग्रेस की एक विशेष निगरानी कमेटी ने 18 मई को अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि मार्च माह में पारित 20 खरब अमेरिकी डॉलर आर्थिक सहायता फंड में पांच खरब डॉलर की वित्तीय मंत्रालय फंड का कुप्रबंधन बताया गया है। जब अमेरिका में बहुत से कारोबार छटनी और दिवालियापन से ग्रस्त हैं, तब वित्तीय मंत्रालय के इस पांच खरब डॉलर फंड में से केवल 37.5 अरब का ही प्रयोग किया गया है।

टिप्पणी:चीन की एक्शन से वैश्विक महामारी-रोधी कार्य का आत्मविश्वास बढ़ा

18 मई की रात को 73वें विश्व स्वास्थ्य महासभा के वीडियो सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने व्याख्यान देते हुए यह आहवान किया कि हमें हाथ मिलाएं और मानव स्वास्थ्य समुदाय के निर्माण के लिए साथ-साथ काम करें। शी ने अपने व्याख्यान में महामारी की रोकथाम में चीन के अनुभवों को साझा किया और वैश्विक महामारी-रोधी कार्यों के बारे में पांच सूत्रीय कदम घोषित किये, जिससे वैश्विक महामारी-रोधी कार्य का आत्मविश्वास बढ़ाया गया है।

भारत में कोरोना से संक्रमित एक लाख के पार पहुंची

फिलहाल भारत में कोरोना वायरस से संक्रमितों और मृतकों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। इस बीच पिछले दो दिन में कोरोना के 10 हजार मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या एक लाख को पार कर गयी है। वहीं, संक्रमण से 3100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जिससे अब भारत एक लाख का आंकड़ा पार करने वाला विश्व का 11वां देश बन गया है।

विश्व स्वास्थ्य महासभा में शी चिनफिंग का भाषण महामारी के वैश्विक मुकाबले के लिए महत्वपूर्ण : इतालवी विद्वान

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसस के निमंत्रण पर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 18 मई को 73वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा के उद्घाटन के वीडियो कार्यक्रम में भाषण दिया और महामारी को जीतने के लिए एकता व सहयोग की अपील की। इस बारे में इटली के लोरेंजो डे मेडिसी संस्थान के उप प्रोफ़ेसर फैबियो मासिमो पेरेंटी ने साक्षात्कार में कहा कि शी चिनफिंग के अपने भाषण में एकता व सहयोग संबंधी सुझाव महामारी के वैश्विक मुकाबले के लिए महत्वपूर्ण है।

HomePrev...47484950Total 50 pages