जुनयी बैठक- चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास में एक महान ऐतिहासिक योगदान

2017-11-24 09:37:21
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/10

दक्षिण पश्चिम चीन के क्वेइचो प्रांत का जुनयी क्षेत्र कम्युनिस्ट पार्टी के प्रसिद्ध लोंग मार्च के इतिहास में बड़ा महत्व रखता है। आज जब इस क्षेत्र का दौरा किया तो लोंग मार्च व लाल सेना के असाधारण मुसीबतों से पार पाने की कहानी के बारे में जानने का मौका मिला।

आज से करीब 80 साल पहले चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने युद्ध के माहौल और अत्यंत कठोर प्राकृतिक परिस्थितियों में लाल सेना का नेतृत्व कर लोंग मार्च किया। इस असाधारण अभियान से चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी तथा चीनी क्रांति की विजय तय हुई और चीन की जातीय मुक्ति के लिए मजबूत नींव रखी गयी। लोंग मार्च की विजय चीनी क्रांति और चीनी राष्ट्र के इतिहास में सुनहरे अक्षरों से लिखी गई है।

लोंग मार्च न केवल चीनी जनता के दिलों में बसा हुआ है, बल्कि विश्व में भी प्रचलित है। जापानी आक्रमणकारियों का मुकाबला करने, और देश की घरेलू सैन्य शक्तियों के बीच गैर-जरूरी लड़ाई से बचने के लिए चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व वाली सेना यानि मशहूर लाल सेना ने पूरे दो वर्षों तक चीन के 14 प्रांतों से गुज़र के, 12000 किलोमीटर का अभियान किया।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ के रूप में जुनयी बैठक महान ऐतिहासिक योगदान है। साल 1935 में यहां सीपीसी केंद्रीय समिति के राजनीतिक ब्यूरो की एक विस्तृत बैठक हुई, जिसमें सैन्य मामलों में हुई गलतियों पर चर्चा की गई साथ ही अपने सैन्य अभियान में सुधार करने पर ध्यान दिया गया। इसलिए, मेरे विचार में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी बहुत महान है, चूंकि वह समय पर अपनी गलतियों का पता लगाती है और गलतियों को सुधार सकती है।

(अखिल पाराशर)

शेयर