भारतीय महिला ने रेस्त्रां से बनाई पहचान

2017-09-13 13:23:19
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

 

   

भारतीय महिला ने रेस्त्रां से बनाई पहचान

भारतीय महिला ने रेस्त्रां से बनाई पहचान

यूं तो कई भारतीयों ने विदोशों में जाकर पैसे और शोहरत कमाई और वहीं बस गए, लेकिन कुछ लोग इनमें ऐसे भी मिलेंगे जिन्होंने पैसों से ज्यादा तवज्जो अपने समुदाय के लिये काम करने में दी, इसका एक उदाहरण हमें पूजा आहूजा में दिखता है जो आज से सत्रह साल पहले भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई से चच्यांग प्रांत के सबसे प्रसिद्ध शहर हांगचो में आकर बसीं।

पूजा हांगचो में जब आईं थीं तो उस समय यहां पर सिर्फ़ चौंतीस परिवार रहते थे, उनके खाने की समस्या के कारण पूजा आहूजा ने उन्हें अपने घर बुलाकर खाना खिलाना शुरु किया और घर में शुरु हुई इस छोटी सी शुरुआत ने आज एक रेस्त्रां का रूप ले लिया, हांगचो में भारतीय रेस्त्रां अच्छी खासी तादाद में हैं, लेकिन पूजा आहूजा के "जश्न" रेस्त्रां ने जो पहचान बनाई है उसके पीछे उनकी मेहनत और लगन साफ़ तौर पर दिखाई देती है, इस रेस्त्रां में खाना खाने वाले देसी और चीनी, दोनों तरह के लोग आते हैं। जश्न रेस्त्रां में जितने लोग खाना खाने आते हैं वो इसके पक्के ग्राहक बन जाते हैं, इसका राज़ खाने के स्वाद में छिपा है जिसे शब्दों में बयां करना मुश्किल है। रेस्त्रां के लोकप्रिय होने के पीछे एक वजह ये भी है कि ये श्याओसिंग के उस इलाके में बना है जो व्यावसायिक क्षेत्र है, यहां पर अगर सिर्फ़ भारतीयों की बात करें तो हांगचो में रहने वाले अधिकतर भारतीय इस इलाके में आकर काम करते हैं।

12MoreTotal 2 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories