श्यामन

ब्रिक्स स्पेशल

3 से 5 सितम्बर को चीन के श्यामन शहर में 9वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन आयोजित होने जा रहा है, जहां ब्रिक्स देशों के शीर्ष नेता आपस में मुलाकात करेंगे। देखिए, जीयो लाइफ वीडियो सीरिज के इस खास वीडियों को, जो है ब्रिक्स स्पेशल।

मेरा ह्वेन त्सांग सपना

भारतीय लोग अभी तक ह्वेन त्सांग को क्यों पसंद करते हैं?क्योंकि ह्वेन त्सांग ने भारत के लिये बहुत बड़ा योगदान दिया है। अगर ह्वेन त्सांग भारत नहीं गये होते, तो भारत का इतिहास बिल्कुल अधूरा होता। ह्वेन त्सांग भारत के इतिहास को रिकॉर्ड कर भारत के बौद्ध धर्म की पुस्तकों को  चीन वापस लेकर आए और सभी का चीनी भाषा में अनुवाद किया आज के युग में क्या चाहिये?संस्कृति को समझने के लिए ह्वेन त्सांग की भावना चाहिये।

राष्ट्र स्तरीय समुद्री पारिस्थितिकी सभ्यता का निर्माण मिसाल है श्यामन द्वीप

श्यामन शहर दक्षिण चीन का तटीय शहर है, जिसकी तटीय रेखा की कुल लम्बाई करीब 226 किलोमीटर है और समुद्री क्षेत्रफल 390 वर्ग किलोमीटर है। यहां के सुन्दर दृश्य पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। 2013 के फरवरी माह में श्यामन शहर को देश के प्रथम राष्ट्र स्तरीय समुद्री पारिस्थितिकी सभ्यता का निर्माण मिसाल चुना गया।

श्यामन के रंग

इस वीडियो के 12 एपिसोड होते हैं, जिनमें श्यामन में सुन्दर दृश्य, घूमने की जगह और विशेष खाने आदि के बारे में बताया जाता है।

खास जायका

स्वादिष्ट खाने से जुड़े 10 एपीसोड वाला टीवी डॉक्यमेन्टरी, खाने के जरिए संस्कृतियों को जोड़ें

श्यामन का परिचय

दक्षिणी चीन के फूच्येन प्रांत का श्यामन शहर "समुद्र में उद्यान" के नाम से प्रसिद्ध है। श्यामन शहर फूच्येन प्रांत के दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र में स्थित है, जो इस प्रांत के सबसे महत्वपूर्ण शहरों में से एक है। श्यामन में मौसम बहुत सुहावना होता है। यह शहर समुद्र के बीच में स्थित है, जहां हजारों सफ़ेद बगुले बसेरा करते हैं।

छ्वानचो शहर में प्राचीन अरब प्रवासियों के अवशेष

प्राचीन काल में दक्षिण चीन के फ़ूच्यान  प्रांत के छ्वानचो शहर में  अरब प्रवासी रहते थे। आज तक इस शहर में अरब प्रवासियों के अवशेष फिर भी सुरक्षित हैं, जिससे प्राचीन का में चीन और अरब देशों के बीच आदान प्रदान जाहिर होता है।

छ्वानचो समुद्री संग्रहालय का दौरा

छ्वानचो समुद्री संग्रहालय में प्राचीन चीन में हिन्दु मंदिरों के अवशेष सुरक्षित हैं। फिलहाल इस संग्रहालय का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। आगामी अक्टूबर माह में फिर से नागरिकों के लिए खोला जाएगा।

फ़ूचोउ का आर्ट म्यूज़ियम

फ़ूच्यान प्रांत के फूचोउ में आज हम लाख(रोगन) की पॉलिश वाला कला म्यूज़ियम देखने गए। इस म्यूजियम में 1912 से 1949 के दौर की कई पेंटिंग और कलाकृतियां रखी गयी हैं।

फ़ूचोउ की प्राचीन गलियां

फूचोउ शहर की प्राचीन गलियों और क्षेत्रों में 'तीन लेन सात पथ' क्षेत्र भी शामिल है। एक ओर फ़ूचोउ शहर की ऊंची-ऊंची इमारतें खड़ी हैं, जो विकास की कहानी कहती हैं। वहीं दूसरी ओर पुराना शहर और उसकी गलियां हैं, जो हमें इतिहास के दर्शन कराती हैं।