सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

चीन की जाती संबंधी नीति

2017-08-15 14:59:04
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन एक बहु जाती वाला एकीकृत देश है । चीन सरकार जातीय समानता, एकता त��ा पारस्परिक सहायता वाली जाती संबंधी नीति अपनाती है, और अल्पसंख्यक जातियों के धार्मिक विश्वास की स्वतंत्रता व रीति रिवाज़ का सम्मान ही नही, उस की रक्षा भी करती है ।

जातीय क्षेत्रीय स्वशासन व्यवस्था चीन की एक महत्वपूर्ण राजनीतिक व्यवस्था है । उस का मतलब राज्य के एकीकृत नेतृत्व में विभिन्न अल्पसंख्यक जातीय क्षेत्रों में स्वशासन की नीति अपनायी जाती है , जहां स्वशासन संस्थाओं की स्थापना कर अपने स्वशासन अधिकार का उपभोग किया जाता हैं । केंद्र सरकार जातीय स्वशासन वाले क्षेत्रों में स्थानीय वास्तविक स्थिति के अनुसार राज्य के कानूनों व नीतियों का पालन करने की गारंटी करती है , बड़ी संख्या में विभिन्न स्तरों पर अल्पसंख्यक जातियों के कार्यकर्ताओं, विभिन्न किस्मों के पैशेवर व्यक्तियों तथा तकनीकी मज़दूरों को प्रशिक्षित करती है । जातीय स्वशासन वाले क्षेत्रों की अल्पसंख्य जातियों की जनता समूची चीनी जनता के साथ मिल कर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में समाजवादी आधुनिकीकरण के निर्माण के लिए समान कोशिश करती हैं, और जातीय स्वशासन क्षेत्र के आर्थिक व सांस्कृतिक विकास को गति देती है और अपने जातीय स्वशासन क्षेत्रों की एकता व समृद्धि के लिए योगदान करती है ।

वर्षों के व्यवहारिक प्रयासों के जरिए चीन की सत्तारूढ़ पार्टी चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने सिलसिलेवार जातीय सवाल संबंधी बुनियादी विचारधाराएं व नीतियां बनायीं , जो मुख्य तौर पर इस प्राकर हैः

जाति के उत्पति, विकास व विनाश एक दीर्घकालीन ऐतिहासिक प्रक्रिया है, जातीय समस्या लम्बे समय तक मौजूद रहती है ।

समाजवादी चरण विभिन्न जातियों के लिए समान समृद्धि वाला काल है । विभिन्न जातियों के बीच समानता की वृद्धि होने के साथ साथ जातीय विशेषता व जातीय विविधता बनी रहती है ।

जातीय समस्या सकल सामाजिक समस्याओं का एक भाग है , इस का समाधान सारी सामाजिक समस्याओं के समाधान के दौरान कदम ब कदम किया जाता है । चीन में वर्तमान में जातीय समस्या का समाधान समाजवादी कार्यों के निर्माण में कदम ब कदम किया जा सकता है ।

विभिन्न जातियों ने चाहे जन संख्या अधिक हो या कम , चाहे इतिहास का लम्बा हो या अल्प , चाहे विकास की स्थिति ऊंची हो या नीची, मातृभूमि की सभ्यता के लिए अपना अपना योगदान किया है , इसलिए सभी जातियां बराबर होनी चाहिए , और विभिन्न जातियों की जनता की एकता और देश के एकीकरण को मज़बूत किया जाना चाहिए ।

आर्थिक विकास को मज़बूत करना समादवाद का मुख्य कार्य ही नहीं है, वर्तमान में जातीय कार्यों का मुख्य लक्ष्य भी है । विभिन्न जातियों को समान प्रगति व समृद्धि की प्राप्ति के लिए पारस्परिक सहायता करना चाहिए ।

जातीय क्षेत्रीय स्वशासन व्यवस्था चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा मार्क्सवादी जातीय विचारधारा को दिया गया महत्वपूर्ण योगदान है । यह चीन में जातीय सवालों के समाधान की बुनियादी व्यवस्था है ।

एक उच्छी गुणवत्ता वाले अल्पसंख्याक जातीय कार्यकर्ता पांत का निर्माण जातीय कार्य को अच्छी तरह चलाने व जातीय समस्याओं के समाधान की कुंजी है ।

जातीय समस्या और धार्मिक समस्या कुछ क्षेत्रों में एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं । इसलिए जातीय समस्या के समाधान के वक्त राज्य की धार्मिक नीति का सर्वतौमुखी तौर पर उचित कार्यान्वयन करन�� चाहिए ।

इस के अलावा, चीन सरकार अल्पसंख्यक जातीय क्षेत्रों में आर्थिक, सांस्कृतिक व शैक्षिक प्रगति को बढ़ावा देने, सभी अल्पसंख्यक जातीय जनता के जीवन स्तर को उन्नत करने के साथ साथ अल्पसंख्यक जातियों के धार्मिक विश्वास का सम्मान करने तथा अल्पसंख्यक जातीय सांस्कृतिक धरोहरों की रक्षा करने पर विशेष ध्यान देती है । चीन सरकार विभिन्न जातियों के धार्मिक संस्कृति समेत सांस्कृतिक धरोहरों एवं लोक कला की जांच , संग्रहण, संकलन ,अध्ययन व प्रकाशन करने के अलावा, अल्पसंख्यक जातीय क्षेत्रों में महत्वपूर्ण ऐतिहासिक व सांस्कृतिक मूल्य वाले मंदिरों व धार्मिक संस्थापनों के जीर्णोद्धार के लिए बड़ी धन राशि लगाती है ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories