सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

उकड़ूं बैठे तीरंदाज की मुर्ति

2017-08-15 15:18:10
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

उकड़ूं बैठे तीरंदाज की अधिकांश मुर्तियां चीन के प्रथम सामंती सम्राट छिनशहुंग के मकबरे के नम्बर दो स्थल की खुदाई से उपलब्ध हुई हैं , हरेक मुर्ति 120 सेंटीमीटर ऊंची है । छिनशहुंग का मकबरा उत्तर पश्चिमी चीन के श्येनसी प्रांत के लिनथुंग के पास है । मकबरे का नम्बर दो स्थल एक ऐसा स्थान है , जहां सिपाही मुर्तियों के रूप में बहु सैन्य अंगों का मोर्चा रचा गया है , सैन्य मोर्चा अन्दर और बाहर दो प्रकार के बने है , उकड़ूं बैठे तीरंदाज सिपाही अन्दर के मोर्चे में तैनात हैं।

उकड़ूं तीरंदाज मुर्ति का ऊपरी अंग सीधा खड़ा हुआ है , निचले अंग में दाहिना घुटना , दाहिना पांव तथा बाईं पांव जमीन पर टिके हैं , जिस से समान लम्बाई वाले त्रिकोण बनाया गया है और इस प्रकार के आसन में तीरंदाज स्थिर और मजबूत उकडूं खड़ा दिखता है । सिपाही के शरीर पर पहने कवच के टुकड़े शरीर के मोड़ लेने के साथ लहरदार रहे है और वस्त्र के रेखाएं आसन के बदलाव से मुड़ जाती दिखाई देती है । इस प्रकार की मुद्रा में मानव आकृति बड़ी सजीव लगती है और मुर्ति भी जीता जागता सी दिखती है । इन उकडूं बैठे तीरंदाज मुर्तियों का भंगमा और मुद्रा अलग अलग होती हैं , जिस से उन का अपना अपना अलग स्वभाव अभिव्यक्त हुआ है । उकड़ूं बैठे तीरंदाज मुर्ति छिनशहुंग मकबरे के सिपाही मुर्ति व्यूह का अनुपम कलाकृति है और चीन की प्राचीन मुर्ति कला की असाधारण खजाना है ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories