सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

फु सुंग लिंग और उन की भूत आत्माओं की कथाएं

2017-08-15 17:03:50
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

18वीं सदी के शुरू में चीन में एक मशहूर व विचित्र कथाओं का संग्रह ल्यो च्ये ची यी यानी भूत आत्माओं की कथाओं की पुस्तक निकली । इस के लेखक फु सुंग लिंग ने विशिष्ट लेखन शैली से बडी संख्या में भूत आत्माओं व लोमड़ियों की कहानियां लिखीं ।

फु सुंग लिंग का जन्म सन् 1640 में हुआ और उन का देहांत 1715 में हुआ ।उन का जन्म एक व्यापरी के परिवार में था और वे आजीवन पढ़ाने में लगे । फु सुंग लिंग ने अनेक साहित्यिक रचनाएं लिखीं ।भूत आत्माओं की कथाओं का संग्रह उन की रचनाओं में से सब से श्रेष्ठ थे ।

इस संग्रह में कुल 431 कहानियां हैं ,जिन में से कुछ कहानियां दो तीन सौ शब्दों की भी है, जबकि कुछ कई हजार शब्दों में । इस संग्रह ने भूत आत्माओं व लोमड़ियों की कहानी गढ़ कर सामंती व्यवस्था और सामाजिक नीति मान्यताओं के पाखंड व अंधकार की निंदा की और व्यक्तिगत स्वतंत्रता की प्रशंसा की ।इस संग्रह में प्रेम कहानियां व्यापक पाठकों को बहुत पसंद आती हैं । इन कहानियों से मानव और भूत आत्माओं व मानवीकृत लोमड़ियों के प्रेम पर आधारित होकर युवाओं की स्वतंत्र प्रेम व विवाह की तीव्र अभिलाषा प्रतिबिंबित हुई है ।

इस संग्रह की कहानियों में लोमड़ी बहुधा सुंदर व सहृदय लड़की के रूप में परिवर्तित हुई दिखाई देती हैं ।श्यो छ्वी नामक कहानी इन कहानियों का श्रेष्ठ प्रतिनिधित्व करती है । इस कहानी में फु सुंग लिंग ने एक सुंदर ,सहृदय ,होशियार व प्यारी लड़की श्यो छ्वी का पात्र रचा ।कहानी के अंतिम भाग में पता चला कि श्यो छ्वी वास्तव में एक छोटी लोमड़ी थी । उस की माता ने अतीत में वांग थाइ चांग नामक एक युवक के घर में शरण ले ली थी । इस घर की कृतज्ञता के लिए श्यो छवी ने मानव के रूप में बदलकर इस घर की सहायता की ।

सुंदर लोमड़ियों के अलावा इस संग्रह में कुछ ऐसी लोमड़ियों की कथाएं भी थी ,जो शक्ल में सुन्दर नहीं होने पर भी सहृदय थी । बदसूरत लोमड़ी नामक एक कहानी का कथानत इस प्रकार है कि एक बदसूरत लोमड़ी एक बहुत गरीब युवक से मिली ।इस सहृद्य लोमड़ी की मदद से युवक को सुंदर कपड़े व बड़ा आरामदेह मकान प्राप्त प्राप्त हुए । अमीर होने के बाद युवक ने लोमड़ी को मकान से बाहर भगा दिया ।अत्यंत क्रोध के कारण लोमड़ी ने मंत्र फूंक कर न सिर्फ उस के सुंदर कपड़ों व मकान को गायब कर दिया ,बल्कि राक्षस के माध्यम से युवक को सजा भी दी ।लेखक ने इस कहानी से मानव के कुछ दुराचारों व बदनियति की निंदा की ।

इस संग्रह की कहानियों में चंद कुछ ऐसी लोमड़ियों का वर्णन भी मिलता है ,जो बहुत सुंदर होने पर निर्दय थी और उन का अंत बहुधा शोचनीय था ।

फु सोंगलिंग ने अपनी लोमड़ी वाली कहानियों में लोमड़ियों को विभिन्न चरित्रों की नारी का रूप दिया , जिन में मानव में कम पाने वाला श्रेष्ठ चरित्र दिखा कर अपना आदर्श अभिव्यक्त किया ।

ल्यो च्ये ची यी चीनी साहित्य इतिहास में असाधारण रचना है ।दो सौ वर्षों में इस का बीसेक विदेशी भाषाओं में अनुवाद किया गया और विश्व के विभिन्न स्���ानों में प्रचलित है ।इस संग्रह के आधार पर अनेक फिल्में भी बनी हैं ,जिन को दर्शकों का बड़ा प्यार मिला ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories