सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

मशहूर नाटककार क्वान हान छिंग

2017-08-15 17:00:52
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन के युन राजवंश के नाटककार क्वान हान छिंग चीनी साहित्य व नाट्य इतिहास में सब से महान लेखकों में से एक थे। उन का आपेरा नाटक तो अ की दुखांत कहानी पिछले सात सौ वर्षों से चीन में लोकप्रिय रहा ।इस का अनेक विदेशी भाषाओं में भी अनुवाद किया गया और विश्व के विभिन्न स्थानों में प्रदर्शित भी हुआ ।

क्वान हान छिंग 13वीं सदी के युन राजवंश में रहते थे ।उन का अधिकांश जीवन युन राजवंश की राजधानी में बीता ।वे शाही अस्पताल में कार्यरत थे ,पर उन्हें चिकित्सा में दिलचस्पी नहीं थी । वे तेजस्वी , प्रतिभाशाली और होशीयार थे , जो कविता , वादन , नृत्य ,शतरंज तथा आखेट के शौकिन थे । वे नाटक लिखने में बहुत रूचिकर थे । युन राजवंश के काल में चीन में आपेरा विभिन्न तबकों में मनोरंजन के लिए बहुत लोकप्रिय था । युन राजवंश के आपेरा व नाटक विष्यों में लोक वाचन कथाओं से ज्यादा विविध और समृद्ध थे , जिन में व्यापक रूप से सामाजिक यथार्थता प्रतिबिंबित थी और जन साधारण की दुख मुसिबतों की अभिव्यक्ति होती थी ।

युन राजवंश में राजनीति अंधकारमय थी व भ्रष्टाचार व्यापक था और समाज के विभिन्न वर्गों व जातियों में अंतरविरोध तीव्र रहता था । क्वान हान छिंग को समाज के निचले तबकों के लोगों पर बड़ी सहानुभूति थी । इसलिए उन्होंने सरकारी पद को त्यागकर नाटक आपेरा के जरिये जन जीवन की हकीकत व्यक्त करने तथा सामाजिक विषमतों का पर्दाफाश करने की कोशिश करना शुरू किया ।

क्वान हान छिंग जन जीवन व जन साधारण की भाषा से सुपरिचित थे ,जिस ने उन की रचना में जीवन शक्ति डाली ।तो अ की दुखांत कहानी उन के असाधारण नाटकों में से सब से श्रेष्ठ था। इस नाटक में तो अ नामक एक युवती के दुखांत जीवन का वर्णन किया गया , जिसे झूठा आरोप लगा कर अन्याय के साथ मौत की सजा दी गई । नाटक विभिन्न कालों के व्यापक लोगों को बेहद पसंद आया ,जो प्राचीन चीन के दस महान दुखांत नाटकों में से एक माना जाता था ।

क्वान हान छिंग चरित्र में न्यायप्रिय, साहसिक तथा प्रतिरोध की भावना से ओतप्रोत थे , वे दलित जन साधारण की दुखों पर ध्यान देते थे और दमन और उत्पीड़न का दृढ़ विरोध करते थे।

क्वान हान छिंग ने जीवन भर में कुल 67 नाटक लिखे । अब सिर्फ 18 बचे हैं । वे तत्कालीन आपोरा नाटक जगत के नेता के रूप में सर्वमान्य थे और उन की रचनाओं का उत्तरवर्ती आपेरा कला पर अमिट प्रभाव पड़ा । क्वान हान छिंग ने न सिर्फ चीनी साहित्य इतिहास ,बल्कि विश्व साहित्य इतिहास में भी अहम स्थान बनाया है। उन्हें पूर्व के शेक्सपीयर के नाम से संबोधित किया जाता है ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories