सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

छ्यु य्वान और उन की कविताएं

2017-08-15 16:59:39
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

छ्वु य्वान दो हजार से अधिक वर्षों में चीनी जनता के बहुत पसंदीदा महाकवि थे । उन का जन्म ईसा पूर्व 475 में हुआ और देहांत ईसा पूर्व 221 में । उस जमाने में चीन में दसेक राज्य बंटे हुए थे । इन राज्यों में निरंतर युद्ध हुआ रहता था । छिन राज्य और छु राज्य उस समय के दो सब से शक्तिशाली राज्य थे ।

छ्वु य्वान छु राज्य के कुलीन शख्स थे और वरिष्ठ अधिकारी भी थे ।वे ए��� ज्ञानी व्यक्ति थे और कूटनीति में निपुण थे । पहले उन पर छु राजा का पक्का विश्वास था । छ्वु य्वान छु राज्य को बहुत प्रेम करते थे । उन्हें अपनी प्रतिभा से छु राजा की मदद दे कर छु राज्य को समृद्ध बनाने की अभिलाषा थी । पर देशी विदेशी नीति पर छ्यु य्वान और छु राज्य के भ्रष्ट पतित कुलीन राजनीतिक गुट के बीच तीव्र अंतरविरोध पैदा हुआ ।इस तरह उन पर झूठा आरोप भी लगाया गया और छु राज्य के राजा को भी छ्यु य्वान पर अविश्वास हो गया ।इस के बाद छु राज्य की शक्ति धीरे धीरे क्षीण हो गयी । ईसा पूर्व 278 में छिन राज्य की सेना ने छु राज्य की राजधानी इंग तू पर कब्जा कर लिया , छु राज्य का पतन हुआ । राज्य के विनाश पर असीम दुख और हताश से छ्यु य्वान ने बडे दुख नदी में कूद कर आत्महत्या कर दी ।

असाधारण राजनीतिज्ञ के अलावा छ्यु य्वान एक महान कवि भी थे । ली स्यो शीर्षक कविता उन की काव्य रचनाओं में से सब से मशहूर थी ।यह एक राजनीतिक उद्गार की रोमानी कविता थी । इस कविता में छ्यु य्वान ने ऐतिहासिक कथाओं के उदाहरण देकर अपनी यह आशा प्रकट की कि छु राज्य के राजा पूज्य प्राचीन राजाओं की भांति सुशासन करेगा और अन्य राज्यों के साथ संयुक्त रूप से छिन राज्य का मुकाबला करेगा । ली स्यो ने चीन के पहले कविता ग्रंथ की कला शैली को एक बिलकुल नया रूप प्रदान किया और कविता की अभिव्यक्ति शक्ति बढा कर चीनी प्राचीन कविता सृजन में का नया अध्याय जोड़ दिया ।वह चीनी रोमानी साहित्य विधि का स्रोत माना जाता है ।

ली स्यो के अलावा स्वर्ग से प्रश्न नामक कविता एक बेजोड़ अनोखी कविता है ।इस कविता में छ्यु य्वान ने स्वर्ग से कुल 172 सवाल पूछे ,जो साहित्य ,भूगोल व दर्शन समेत अनेक क्षेत्रों से संबंधित थे ।इस कविता ने परंपरागत रूढी हुई मान्यताओं शक प्रकट कर सच्चाई की खोज करने वाली छ्यु य्वान की वैज्ञानिक भावना जाहिर की ।

छ्यु य्वान की कविताओं की भाषा सुबौध व सुंदर है और विशिष्ट काव्यालंकार है और उन की कविताओं में फुल पौधों को मानवी स्वरूप दिया गया तथा परी अप्सरियों की कल्पना कर उन में अपना उदात्त भाव और स्वच्छ चरित्र गर्भित किया गया । कविताओं में उपमा विधि का सुन्दर प्रयोग किया गय और कविताओं के विषय अपने राज्य से असीम प्यार से परिपूर्ण हैं । इसलिए दो हजार साल से ज्यादा समय में छ्यु य्वान चीनी जनता के सब से प्रिय कवियों में से एक रहे ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories