सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

छांग-अ के चांद की ओर उड़ान की कहानी

2017-08-15 17:14:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी पंचाग के अनुसार साल के हर आठवें माह की 15 तारीख को मध्य शरद उत्सव होता है, वह चीन के वसंत त्यौहार समेत तीन प्रमुख पुरातन परम्परागत त्यौहारों से एक है । मध्य शरद उत्सव की रात चीनी लोग सपरिवार मुनकेक और मिट्ठे फल खाते हुए रोशनीदार चांद के सौंदर्य का आनंद उठाते हैं , इस उत्सव के बारे में एक प्राचीन पौराणिक कथा भी प्रचलित है , वह है छांग-अ के चांद की ओर उड़ान भरने की कहानी ।

छांग-अ चांद की देवता थी , उस का पति हो-ई एक वीर यौद्धा था , उस के तीर का निशाना कभी भी नहीं चूकता था । आदि प्राचीन काल में धरती पर बड़ी संख्या में आदमखोर जानवर पैदा हुए , जो नरसंहार मचाते थे । स्वर्ग सम्राट ने यह खबर पाने के बाद हो-ई को जग लोक में जा कर धरती पर के इन दुष्ट जानवरों का विनाश करने भेजा । स्वर्ग सम्राट की आज्ञा बजाते हुए हो-ई अपनी लावण पत्नी छांग-अ के साथ जग लोक में आए । वह बहादुर और शक्तिशाली था , और उस ने अल्प समय में ही धरती पर के नृसंहारी जानवरों को नष्ट कर दिया । लेकिन न जाने कि इसी वक्त आकाश में दस सुर्य उत्पन्न हुए , वे स्वर्ग सम्राट के पुत्र थे , जो अपनी मनमाने मजा के उद्देश्य में जान बुझ कर आकाश में आ निकले थे , उन की तेज रोशनी से जमीन सूख पड़ी , फसल जल कर नष्ट हुई और मनुष्यों ने बड़ी संख्या में तपती हुई गर्मी से दम तोड़े और जमीन पर लाशों के ढेर ही ढेर नजर आए ।

दस सुरजों के कुकर्म को हो-ई बर्दाश्त नहीं कर सकता , उस ने समझा बुझा कर सुरजों को सलाह दी कि वे सामुहिक रूप में आकाश में न आए और बारी बारी से रोज केवल एक बाहर आये । लेकिन घमंड से अंधे दस सुरजों ने हो-ई की सलाह नहीं मानी , उल्टे उन्हों ने और अधिक कुकर्म मचाने लगे , वे जान बुझ कर धरती के निकट जा पहुंचे , जिस की असह्य तेज किरणों से जमीन पर भंयकर आग लगी । इस सब को देख कर हो-ई सुरजों की हठधर्मी और दुष्टता से बेहद क्रुद्ध हुए , उस ने सुरजों को मार गिराने की ठान ली । उस ने कंधे पर से धनु उतारा और म्यान से बाण बाहर निकाला और सुर्यों को मार गिराने के लिए छोड़ा , एक ही सांस में हो-ई ने नौ सुरजों को मार गिराया , आसमान में मात्र एक सुर्य रह गया , उस ने हो-ई से माफ मांगी , तभी हो-ई ने उसे जिन्दी छोड़ा । धरती शांत हो गई , मनुष्य पुनः शांति चैन जीवन बिताने लगे, वे हो-ई के बहुत आभारी थे ।

इस महान कारनाम से हो-ई ने मनुष्य के लिए कल्याण तो किया था , पर वह स्वर्ग सम्राट के क्रोध के पात्र बना , सम्राट अपने पुत्रों को मार डाला जाने के कारण हो-ई पर घोर आक्रोश आया । उस ने हो-ई और उस की पत्नी छांग-अ को देव लोक से निकाल कर दोनों को फिर स्वर्ग लोक वापस आने की इजाजत नहीं दी । स्वर्ग लौटने नहीं जा पाने पर हो-ई और छांग -अ ने जग में बसने का संकल्प किया, ताकि धरती पर प्रजा की सेवा में ज्यादा हितकारी काम करें , वे वहां आखेट का जीवन बिताने लगे । लेकिन वक्त गुजरते गुजरते हो-ई की पत्नी छांग-अ जग के दूभर जीवन से असंतुष्ट हो गई , उस ने यह कह कर हो-ई की आलोचना की कि उस ने स्वर्ग सम्राट के पुत्रों को मार गिराने के सुझ बुझ से काम नहीं लिया।

यह विचार भी लगातार हो-ई को सताता रहा कि अपने ही कारण उस की पत्नी छांग-अ को भी स्वर्ग में वापस नहीं जा सकी । उस ने सुना कि खुनलुन पर्वत पर रहने वाले देवता सीवांगमु के पास दिव्य दवा है ,जिसे खाने के बाद मनुष्य स्वर्ग पर आरोहित हो सकता है । तो हो-ई लम्बी सफर तय कर लाखों मुसिबतों को सह कर खुनलुन जा पहुंचा , और सीवांगमु से दिव्य दवा मांगा । लेकिन यह दवा केवल एक व्यक्ति के लिए पर्याप्त थी , हो-ई का जी नहीं चाहता था कि अपनी प्यारी पत्नी को धरती पर छोड़ कर वह अकेला स्वर्ग जाए , लेकिन यह भी नहीं मानता था कि पत्नी उसे छोड़ कर अकेली स्वर्ग जाए । इस दुविधा से परेशान वह घर लौटा और दवा को छिपा कर गुप्त रखा ।

दिव्य दवा का रहस्य अंत में छांग-अ को पता चला , यो वह अपने पति से बहुत प्यार करती थी , लेकिन स्वर्ग लोक के आनंदिद जीवन से असीम आकृष्ट भी हुई थी । मध्य शरद में आठवें माह की 15 वीं तारीख को पूर्णानुमा की रात , जब हो-ई घर पर नहीं था , तो उस ने दिव्य दला की तलाश कर खाया , तुरंत उस का शरीर उत्तरोतर हल्का होता गया और धीरे धीरे वह आकाश की ओर उड़ने लगी , उड़ती उड़ती अंत में वह चांद पर जा पहुंची और वहां के शीत महल में रहने लगी । जब पता चला कि पत्नी स्वर्ग लोक चली गई , तो हो-ई को बड़ा गम हुआ , वह दिव्य बाण से पत्नी को मार गिराने को कतई तैयार नहीं था , इस तरह दोनों सदा के लिए जुदा हो गए ।

अब हो-ई अकेलेपन का जीवन बिताने लगा , वह शिकारी के जीवन पर आश्रित रहा , उस ने प्रजा की सेवा का काम जारी रखा । उस ने अनेक युवाओं को शिष���य बना कर उन्हें तीर मारने का कौशल सीखाया । शिष्यों में से फङमन नाम का एक व्यक्ति था , वह होशियार था , अल्पकाल में ही उस ने तीरंदाजी के बेहतरीन कौशल पर अधिकार किया । लेकिन इस शिष्य के मन में एक दुष्ट विचार आया था कि जब तक हो-ई रहेगा , तब तक वह खुद तीरंदाजी के नम्बर एक पर नहीं आ सकेगा , एक दिन जब शराब पी कर हो-ई गहरी नींद में सोया , तो फङमन ने उसकी तीर मार कर हत्या की ।

छांग-अ चांद पर तो आरोहित हुई थी , लेकिन वहां निर्जन महल में केवल एक खरगोश और एक बुढ़ा थे , जो महज औषधि बनाना तथा वृक्ष काटना जानते थे , उसे बड़ी उदासी और अकेलेपन की अनुभूति हुई । जब तब छांग-अ को अपने पति के साथ गुजरे सुन्दर दिन और जग लोक के स्नेह की याद आई , खास कर मध्य शरद के आठवें माह की 15 वीं तारीख को जब चांदनी रात निकली , तो उसे पहले के सुख चैन के जीवन की याद और अधिक सता रही थी ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories