सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

रूवान

2017-08-15 14:48:29
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

रूवान चीन के तंतुवाद्यों में से एक है , प्राचीन काल में उसे छिन फीफा कहलाया जाता था । करीब ईसा पूर्व दूसरी तीसरी शताब्दी के छिन राजवंश के काल में लोगों ने एक हथली युक्त छोटे ढोल पर तारे लगाकर तंतुवाद्य यंत्र का रूप दे दिया और उसे शियेन थाओ का नाम रखा । इस के बाद लोगों ने चंग और चू आदि तंतुवाद्यों के आधार पर शियेन थाओ को नया रूप देकर छिन फीफा का नाम रख दिया ।

ईस्वी तीसरी शताब्दी के आसपास एक रूवान शियेन नामक संगीतकार छिन फीफा बजाने में अत्यंत निपुर्ण था , उस की बजाने की कला लोगों के बीच इतनी लोकप्रिय थी कि स्थानीय लोग छिन फीफा को उसी के नाम रूवान शियेन कहने लगे । वास्तव में आज से कोई एक हजार वर्ष पहले के सुंग राजवंश काल में रूवान शियेन को रूवान के नाम से जाना जाने लगा ।

रूवान का आकार प्रकार सीधा सादा है , वह मुख्य तौर पर तीन भागों से गठित है । उस के सिर पर चीनी परम्परागत ड्रेगन जैसी शुभचिन्ह कला कृति को जड़ा जाता है और दोनों ओर तार स्थिर करने वाले चार वस्तुएं लगायी जाती हैं । जबकि उस का शरीर एक पतला गोलाकार ढोल मालूम पड़ता है , उस की आवाज इसी जगह से होकर विस्तृत हो जाती है । रूवान की संरचना , बनाने की सामग्री और बजाने की कला फीफा से मिलती जुलती है ।

इधर सालों में चीनी जातीय वाद्य यंत्रों को महत्व देने के चलते संगीतकारों ने रूवान तंतु वाद्य में सुधार लाकर ऊंचे , मध्यम , निम्न मध्यम और नीचे स्वर वाले रूवान का सृजन किया है ।

ऊंचे स्वर वाले रूवान की आवाज साफ और पारदर्शी है , धुन बैंड में अक्सर धुन की प्रमुख लय बजाने का काम देता है ।

मध्यम स्वर वाले रूवान की आवाज कोमल और शांत है , समूह संगीत में उस की भूमिका भी महत्वपूर्ण है । बजाने में विविध परिवर्तनीय तालों की विशेषता ने अपनी विशेष पहचान बना ली है । धुन बैंड में दो से ज्यादा मध्यम स्वरे वाले रूवान के प्रयोग से संगीत और मधुर व मर्मस्पर्श बना दिया जाता है ।

बड़े रूवान की आवाज मध्यम स्वर वाले रूवान की आवाज से पांच डिग्री नीची है , वह पश्चिमी वाद्य बड़े वायलिन से मिलता जुलता है , धुन बजाते समय वह मध्यम स्वर वाले रूवान का साथ देने से मध्मम रूवान की भूमिका और स्पष्ट रूप से अभिव्यक्त कर सकता है । साथ ही वह भावुक संगीत बजाने में ताल तेज बनाने और उल्लासपूर्ण व उत्साहवर्द्धक भावना प्रकट कर सकता है । धीमी स्वर वाले रूवान की आवाज भारी और नीचली है और वह पश्चिमी वाद्यों के नीचे स्वर वाले वायलिय जैसा है ।

रूवान से बजायी गयी धुन: 《युन्नान की यादें》

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories