सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

ल्यू छिन

2017-08-15 14:45:42
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

ल्यू छिन फीफा जैसे तंतुवाद्य यंत्रों में से है , क्योंकि यह वाद्य यंत्र ल्यू नामक पेड़ की लकड़ी से तैयार किया जाता है और उस का आकार प्रकार ल्यू नामक पेड़ के पत्ते जैसा है , इसलिये वह ल्यू छिन या ल्यू ये छिन के नाम से जाना जाता है । ल्यू छिन का आकार और उस की संरचना फीफा से बहुत करीब है । शुरू शुरू में ल्यू छिन की संरचना बहुत सरल थी और बहुत मामली लगती थी , इसलिये चीनी लोग बड़ी स्नेह से देसी फीफा कह कर पुकारते थे । यह देसी फीफा लम्बे समय से पूर्वी चीन के शानतुंग , आनह्वी और च्यांगसू प्रांतों में काफी लोकप्रिय है । स्थानीय लोगों ने स्थानीय औपेरा पेश करते समय उस का प्रयोग करना पसंद किया ।

आकार प्रकार और संरचना की दृष्टि से ल्यू छिन और फीफा के बीच बड़ा फर्क नहीं पड़ता ही नहीं , बजाने का तरीका भी एक जैसा है , फर्क मात्र यही है कि ल्यूछिन बजाने में पोच नामक एक विशेष छोटे साधन की जरूरत पड़ती है । ल्यू छिन बजाने की विधिक्रिया इस प्रकार है कि बैठे हुए वादक ल्यूछिन को अपने सीने के आगे रखकर बायं हाथ से ल्यूछिन पकड़कर उंगलियों से तंतुओं को दबाने के साथ साथ दायं हाथ की अंगूठे व तर्जनी के बीच रखे पोच से तंतुओं को बजाता है , इसी समय वादक की आकृति बहुत सुंदर लगती है ।

1958 के अंत में उस्ताद वांग ह्वी रान ने वाद्य यंत्र कारखाने के कर्मचारियों के साथ प्रथम नये आकार वाले ल्यूछिन –तीन तंतु वाद्य यंत्र वाला ल्यू छिन तैयार कर लिया । तीन तंतु वाद्य वाला ल्यूछिन पहले के दो तंतु वाद्य यंत्र के आधार पर निर्मित किया गया है और उस की लयों की संख्या सात बढ़कर 24 हो गयी है । देसी फीफा की तुलना में इस प्रकार वाले ल्यू छिन की आवाज का दायरा विस्तृत हो गया है और लय बदलने में भी सुविधाजनक है , यहीं नहीं , आवाज पहले से काफी साफ सुथरी हो गयी है । 70 वाले दशक में वांग ह्वी रान ने फिर इसी प्रकार की दूसरी पीढ़ी वाले ल्यू छिन – ऊंची आवाज के चार तंतु वाद्य यंत्र वाला ल्यूछिन निर्मित किया । इसी प्रकार के ल्यूछिन में तंतुओं व लयों की संख्या बढ़ने के अतिरिक्त यह सब से बड़ा परिवर्तन आया है कि उसे बनाने की सामग्री में बांस ने बाजरे की जगर ली है और रेश्मी तंतु की जगह सूक्ष्म इस्पाती तंतु ने ली है । इसी प्रकार के परिवर्तनों से ल्यू छिन की क्षमता काफी हद तक उन्नत हो गयी है । जिस से ल्यू छिन अपने पिछले 200 साल का पुराना इतिहास समाप्त कर नये विकास के रास्ते पर चल निकला है ।

आज चीनी संगीत के क्षेत्र में ल्यूछिन विभिन्न प्रकार का पार्ट अदा करता आया है । राष्ट्रीय धुन बैंड में ल्यूछिन ने अपनी विशेष पहचान बना ली है । उस की विशेष सूक्षम आवाज दूसरे वाद्य यंत्रों की आवाजों में आसानी से विलय नहीं हो सकती है , कभी कभार ऊंची तकनीकी वाले धुन बजाने में भी उस का प्रयोग किया जाता है । इस के अतिरिक्त ल्यूछिन की आवाज पश्चिमी वाद्य यंत्र मांथोली की आवाज से मिलती जुलती है , इसलिये पश्चिमी धुन बैंड के साथ सहयोग करने में वह अपनी अलग पहचान भी बना सकती है ।

[ल्यूछिन से बजायी गयी धुन]: 《खिले फूल》

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories