सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

बांसुरी

2017-08-15 15:04:50
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

बांसुरी चीन का अत्यंत लोकप्रिय सुषिस वाद्य यंत्र माना जाता है , क्यों वह प्राकृतिक बांस से बनाया जाता है , इसलिये लोग उसे बांस बांसुरी कहते हैं ।

बांसुरी बनाने की प्रक्रिया काफी कठिन नहीं है , सब से पहले बांसुरी के अंदर के गांठों को हटाया जाता है , फिर उस के शरीर पर कुल सात छेद खोदे जाते हैं । सब से पहला छेद मुंह से फूंकने के लिये छोड़ा जाता है , बाकी छेद अलग अलग आवाज निकले का काम देते हैं ।

बांसुरी देखने में छोटा व सरल लगता है , पर उस का इतिहास कोई सात हजार वर्ष पुराना है । करीब चार हजार पांच सौ वर्षों से पहले हड्डी बांसुरी को बांस बांसुरी का रूप दिया । ईसापूर्व पहली शताब्दी के हान राजवंश के ऊ ती काल में बांसुरी का स्थान सुषिर वाद्य यंत्रों में अत्यंत महत्वपूर्ण था । सातवीं शताब्दी से बांसुरी को फिर सुधार कर उस के शरीर पर एक सूक्ष्म चादर छेद लगाया गया , जिस से उस की अभिव्यक्ति काफी बड़े हद तक विकसित हुई और बजाने की तकनीक कला भी बुलंदी पर पहुंच गयी । दसवीं शताब्दी में सुंग राजवंश में कविताओं को गाने के रूप में सुनाया जाता था , अतः बांसुरी कविताओं के गाने में प्रमुख वाद्य यंत्र की भूमिका निभाने लगा था , साथ ही स्थानीय औपेरों और अल्पसंख्यक जातियों की संगीत मंडलियों में बांसुरी का स्थान भी अपरिहार्य रहा ।

बांसुरी की अभिव्यक्त शक्ति अत्यंत विविधतापूर्ण है , उस से लम्बे , ऊंचे , चंचल , तेज व भारी प्रकारों के सूक्ष्म भाविक मधुर संगीत बजाया जाता है । लेकिन इतना ही नहीं , वह विभिन्न प्राकृतिक आवाजों की नकल करने में निपुर्ण है , मिसाल के लिये वह नाना प्रकार के पक्षियों की आवाज हू व हू नकल कर सकता है ।

बांसुरी की बजाने की तकनीक कलाएं समृद्ध ही नहीं , उस की किस्में भी विविधतापूर्ण हैं , जैसे मोटा लम्बा बांसुरी , पतला नाटा बांसुरी , सात छेदों वाला बांसुरी और ग्यारह छेदों वाला बांसुरी आदि आदि देखने को मिलते हैं और उस की बजाने की शैली भी दक्षिण व उत्तर दोनों शाखाओं में भिन्न रूपों में पायी जाती है ।

दक्षिण शाखा की शैली सूक्ष्म व स्वच्छ लगती है , संगीतकार इसी प्रकार का संगीत बजाने में मुख्य रूप से मोटे लम्बे बांसुरी का प्रयोग करते हैं । क्योंकि इस प्रकार के बांसुरी की आवाज मुलायम मीठी व भावुक है , यह शैली मुख्यतः दक्षिण चीन में प्रचलित है ।

जबकि उत्तर शाखा की शैली तेज व जबरदस्त लगती है , इसी प्रकार का संगीत बजाने में आम तौर पर पतले नाटे बांसुरी का प्रयोग किया जाता है । क्योंकि इसी प्रकार का बांसुरी पतला व नाटा है , इसलिये उस की आवाज ऊंची व शक्तिशाली है , यह शैली मुख्य रूप से उत्तर चीन में लोकप्रिय है ।

[बांसुरी से बजाया गया संगीत]: 《कूसू यात्रा》

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories