सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

युन्न मिन य्वान उद्यान का क्या परिणाम

2017-08-15 16:51:17
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

वर्ष 1860 में ब्रिटेन और फ्रांस की साझी सेना ने छिंग राजवंश की राजधानी पेइचिंग पर आक्रमण कर तत्कालीन विश्वविख्यात शाही उद्यान युन्न मिन य्वान को मनमानी लूटा और भंयकर आग लगा कर विश्व में इस सब से सुन्दर और शानदार शाही पार्क को जला कर भस्म कर दिया ।ब्रिटिश और फ्रांसीसी आक्रमणकारी युन्न मिन य्वान से अनगिनत अमोल चीजें लूट कर ले गए ।स्वदेश लौटने के बाद फ्रांसीसी हमलावर सेना ने फ्रांसीसी सम्राट को उपहार के रूप में जितने युन्न मिन य्वान की दुर्लभ व मूल्यवान चीजें भेंट की थीं , उन की संख्या ही तकरीबन दल हजार हो गई थी । यदि आज आप चीन के शाही उद्यान युन्न मिन य्वान में तत्काल में गृहित चीनी सांस्कृतिक अवेशष देखना चाहें , तो आप को ब्रिटेन और फ्रांस जाना चाहिए , न कि चीन आना ।


ब्रिटेन के लंदन ब्रितानिया संग्रहालय में युन्न मिन य्वान से लूट कर लाई गई दर्जनों हजार अमूल्य प्राचीन चीनी वस्तुएं प्रदर्शित हैं , जिन में स्वी और थांग राजवंशों के सांस्कृतिक अवशेष तथा मिन व छिंग राजवंशों के रत्न जेड के दुर्लभ काम शामिल हैं , बहुत सी कलाकृतियां अब चीन में भी नहीं उपलब्ध हो सकती हैं । चीन के पूर्वी च्येन राजवंश के सुप्रसिद्ध चित्रकार कु खाई जी की चित्र कृति नारी के धर्मकर्म भी संग्रहालय में सुरक्षित है , यह चित्रमाला चित्रकला में चीन की सब से पुरानी ऐसी उत्तम कृति मानी जाती है , जिस में मानव के भावों की अभिव्यक्ति के लिए उस की विविध मुद्राओं के चित्रण की कला अपनाई गई है । युन्न मिन य्वान उद्यान को लूटे जाने के समय फ्रांस में नापोलोन तृतीय का शासन हो रहा था , उस ने विशेष तौर पर फनतैनेब्लो दुर्ग में चीन भवन खोला , जिस में फ्रांसीसी आक्रमणकारी सेना द्वारा उसे भेंट में दी गई युन्न मिन य्वान की हजार से ज्यादा चीनी एतिहासिक अवशेष और कलाकृतियां सुरक्षित की गई , इन अमोल दुर्लभ कलाकृतियों में चीन के सांग व चो राजवंशों के पीतल बर्तन ,मिन व छिंग राजवंशों की सरकारी भट्टियों में बनाए गए चीनी मिट्टी के बर्तन , विभिन्न किस्मों के जेड काम , हाथी दांत की मूर्ति , छिंग राजवंश के सम्राट च्यान लुङ का शाही मुहर तथा हरित जेडों के परचों से बना रूम स्क्रेन , जिस पर सम्राट च्यान लुङ की 66 साल की आयु में उस के जन्म दिवस के अवसर पर राजमहल में आयोजित सौ वयोवृद्धों के भव्य भोज चित्रित हुआ है । फ्रांस की राजधानी के पैरिस राष्ट्रीय संग्रहालय में युन्न मिन य्वान से लूट लाए रेशमी चित्र गृहित है , जिस पर युन्न मिन य्वान शाही उद्यान के 40 प्रमुख दृश्यों के चित्र अंकित हैं ,इस के अवाला युन्न मुन य्वान की दृश्यावली वाला चित्र , जिस पर सम्राट च्यान लुङ की हस्तलिखी कविताएं अंकित हैं , जैसे अस्सी कीमती सांस्कृतिक अवशेष भी हैं । जहां तक विदेशियों के हाथों में निजी तौर पर रखी गई युन्न मिन य्वान की मूल्यवान वस्तुओं का ताल्लूक है , उन्हें गिना भी नहीं जा पाता है ।

वर्ष 2000 के मई माह में हांगकांग के सांस्कृतिक अवशेषों ��ी बोली बिक्री में खुले तौर पर युन्न मिन य्वान उद्यान की कुछ सांस्कृतिक अवशेष बेचे गए , जिन में तीन चीजें इस शाही उद्यान के पश्चिम शैली में निर्मित हाईआन भवन में बनाए गए जल फुवारे पर रखी गई बैल , बंदर तथा बाघ की कांस्य सिर मुर्तियां शामिल थीं , हाईआन भवन के सामने निर्मित जल फुवारे पर चीनी परम्परागत पंचाग में निश्चित 12 वर्षों के प्रतीक 12 नस्लों के जानवरों की मुर्तियां बनायी गई थी , हरेक निश्चित वक्त पर एक निश्चित जानवर के मुख से स्वः जल का फुवारा फूटता था , ठीक दिन की दोपहर पर सभी 12 जानवरों से एक साथ जल फुवारा निकलता था , इस काम का डिजाइन असाधारण बढ़िया और सूक्ष्म था । तत्काल में पश्चिमी आक्रमणकारी सेना जब युन्न मिन य्वान को लूट रही थी , तो वह इन मुर्तियों को सब से कीमति कलाकृति समझती थी , जिस किसी के हाथों में ये मुर्तियां पड़ी , उस की हैसियत अवश्य ही असाधारण भी थी ।




हांगकांग की बोली बिक्री में वह कांस्य बाघ मुर्ति एक करोड़ 40 लाख य्वान , बैल मुर्ति 70 लाख तथा बंदर मुर्ति 74 लाख य्वान में बिक गई , निश्चन की बात यह है कि ये तीनों अमोल मुर्तियां आखिर में दो चीनी कंपनियों द्वारा खरीदी गई हैं ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories