सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

हान राजवंश का सम्राट ल्यू बांग

2017-08-15 17:09:41
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

ल्यू बांग पश्चिमी हान राज्य (ईसापूर्व 206 से ईसापूर्व 220) का संस्थापक सम्राट था, और वह चीन के इतिहास में ऐसे दो सम्राटों में से एक था, जिन का घर गरीब था।

ल्यू बांग एक किसान का बेटा था। जब वह युवा था, तब वह छिन साम्राज्य में एक स्थानीय छोटा अधिकारी था। वह एक उदार व्यक्ति था।चुंकि उस ने जैल के अपराधियों को रिहा कर दिया, इसलिए, विवश होकर उसे मांग और थांग नामक पहाड़ों में भागकर छिपना पड़ा। ईसापूर्व 209 में, ल्यू बांग ने अपनी जन्मभूमि में किसान सेना को इकट्ठा करके छन शन और वू क्वांग विद्रोह का समर्थन किया। बाद में ल्यू बांग ने सेना का नेतृत्व करके छिन साम्राज्य की राजधानी श्येन यांग में प्रवेश किया और छिन साम्राज्य के शासन को समाप्त किया। ल्यू बांग ने छिन साम्राज्य की राजधानी श्येन यांग में उस समय की कड़ी कानूनी सज़ाओं को रद्द कर दिया और यह आदेश भी जारी किया कि हत्यारों को मृत्यु की सज़ा दी जाएगी और अन्य अपराधियों को अपराधों के अनुसार सज़ा दी जाएगी। उस के इस आदेश को व्यापक जनता का समर्थन मिला था।

इस के बाद ल्यू बांग ने छिन साम्राज्य और उस के का विरोधी श्यांग व्यू के नेतृत्व वाली अन्य एक सेना के साथ चार वर्षों की छ्वू हान लड़ाई लड़ी। ईसापूर्व 202 में ल्यू बांग ने तीन लाख सैनिकों को लेकर श्यांग व्यू को जा घेरा। श्यांग व्यू ने विवश होकर आत्म हत्या की। ल्यू बांग ने विजय पायी। ईसापूर्व 202 में ल्यू बांग शेन तुंग प्रांत में सम्राट बना और उस ने हान राज्य की स्थापना की।

ल्यू बांग सुयोग्य व्यक्तियों का नेतृत्व करने में सक्षम था। आपातकालीन समय पर वह अकसर खतरों से बचा सकता था। ल्यू बांग की सेना से एक हेन शीन नामक छोटा जनरल भाग गया। यह खबर सुनकर श्याओ ह ने खुद ही जाकर हेन शीन को वापस बुलाया और ल्यू बांग के समक्ष हेन शीन की सिफारिश की। हालांकि उस वक्त हेन शीन केवल एक छोटा जनरल था, फिर भी ल्यू बांग ने श्याओ ह के सुझाव और सिफारिश को मानकर हेन शीन को एक प्रमुख जनरल नियुक्त किया। बाद में हेन शीन ने वास्त्व में ल्यू बांग की भारी मदद की।

हुंग मन येन हान राज्य की स्थापना में एक खतरनाक घटना घटी। उस वक्त श्यांग व्यू की सेना ल्यू बांग से मजबूत थी। श्यांग व्यू ल्यू बांग को हराकर खुद सम्राट बनना चाहता था । यह जानकार ल्यू बांग अपने परामर्शदाता चांग ल्यांग के साथ स्वयं श्यांग व्यू के तैनात स्थल हुंग मन गये और क्षमा मांगी। श्यांग व्यू के परामर्शदाता फेन जडं ने सुझाव दिया कि वह मौके देखकर ल्यू बांग को मार डाले। हुंग मन में भोज करते समय श्यांग व्यू के प्रमुख जनरल श्यांग च्वांग ने तलवार नृत्य करने के बहाने से ल्यू बांग को मारने की कोशिश की। चांग ल्यांग ने यह सब देखकर ल्यू बांग के अंगरक्षक फेन ह्वेई को बुलाकर ल्यू बांग की रक्षा की। कुछ देर बाद, ल्यू बांग शौचालय जाने के बहाने फेन ह्वेई की सुरक्षा में अपने शिविर में वापस लौटा। इस के बाद चांग ल्यांग ने श्यांग व्यू को उपहार प्रदान करके बिदा ले ली और उसे बताया कि ल्यू बांग वापस लौट चुका है। यह घटना चीन के इतिहास में मशहूर हुंग मन येन घटना के नाम से जानी जाती है। ल्यू बांग ने बाद में सैनिकों को इकट्ठा करके अंत में श्यांग व्यू को हराया और पश्चिमी हान राज्य की स्थापना की।

ल्यू बांग ने शासननारुढ़ होने के बाद, सिलसिलेवार ढंग से कदम उठाकर उत्पादन की बहाली की और उस का विकास किया। अनेक वर्���ों की लड़ाइयों से राज्य की आबादी में भारी कमी आ गयी थी। ल्यू बांग ने अनेक अपराधियों व गुलामों को रिहा कर दिया और सैनिकों को घर वापस भेजाया। इस के बाद उस ने कुछ कर वसूली को समाप्त किया और छिन साम्राज्य काल में सैन्य योगदान के अनुसार मकान व भूमि देने की व्यवस्था जारी की। साथ ही उस ने घैर ल्यू के पारिवारिक नाम न होने वाले कुछ स्थानीय राजाओं को रद्द कर दिया और एकीकृत केंद्रीय शासित राष्ट्र को और मजबूत किया। और ल्यू का पारिवारिक नाम वाले नौ राजाओं को नियुक्त किया और क्वेन तुंग के छह राज्यों के एक लाख से ज्यादा प्रसिद्ध व्यक्तियों को क्वेन चुंग तक स्थानांतरित किया।

छिन साम्राज्य को पलटने के बाद, उत्तरी चीन की अल्पसंख्यक जाति की सत्ता श्योंग नू दक्षिण की ओर बढ़ना शुरु हुई। हान राज्यवंश की शुरुआत में श्योंग नू अकसर हान के सीमांत प्रांतों में अतिक्रमण करता रहता था। ईसापूर्व 200 में, ल्यू बांग ने खुद ही सेना का नेतृत्व करके श्योंग नू से लड़ाई लड़ी। पेई तंग (आज के शेन शी प्रांत के दा थुंग के उत्तर पूर्वी में स्थित है) में 3 लाख से ज्यादा श्योंग नू के सैनिकों ने ल्यू बांग को सात दिन रात घेर कर रखा। इस खतरे से बचने के लिए ल्यू बांग ने विवश होकर श्योंग नू के खिलाफ़ शांति व स्नेहपूर्ण नीति अपनायी और दोनों पक्षों के बीच तनावपूर्ण संबंधों में स्थायित्व लाने के लिए हान व श्योंग नू के बीच सीमांत बाजार को खोला।

युवावस्था में ल्यू बांग साहित्यकारों के कन्फ्यूशसवादी विचारों को मूल्यवान नहीं समझता था। सत्ता प्राप्त करने के बाद उस का मानना था कि उस ने सशस्त्र शक्ति से राज्य को जीता था। उस के विचार में शी और शू आदि पुस्तकें पढ़ने का कोई अर्थ नहीं है। हान राज्य के एक मंत्री लू जा ने ल्यू बांग को यह बताया कि आप सशस्त्र शक्ति से राज्य जीत सकते हैं, लेकिन सशस्त्र शक्ति से राज्य का शासन नहीं कर सकते ।यह सुनकर ल्यू बांग ने अपनी गलती को पहचाना और लू जा को पुस्तक लिखकर लोगों को यह पताऐं कि छिन राज्य की हार के कारण बताने का आदेश दिया। ईसापूर्व 190 में ल्यू बांग श्योंग नू से लड़ाई लड़ने में तीर से घायल हुआ और बाद में उस का देहांत हुआ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories