सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

शोध शिक्षा की दाखिला परीक्षा

2017-08-15 15:22:46
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

शोध शिक्षा की दाखिला परीक्षा को विभिन्न उच्च शिक्षलयों तथा अनुसंधान संस्थानों द्वारा शोध छात्रों को दाखिला करने के लिए दी जाने वाली परीक्षा कहलाती है । शोध शिक्षा की दाखिला परीक्षा में मास्टर और डाक्टर दो स्तर की परीक्षा शामिल है।

चीन में मास्टर छात्रों की दाखिला परीक्षा लिखित व मौखिक दो भागों में बंटती है। लिखित रूप की परीक्षा के आम विषय के लिए चीनी शिक्षा मंत्रालय द्वारा तय किये जाने वाले एकीकृत विषय अपनाये जाते हैं और इन विषयों की परीक्षा पर दाखिला का निम्नत्म अवश्यक अंक निश्चित भी किया गया है । उदाहरणार्थ आर्टस विषय की परीक्षा के लिए छात्रों को राजनीति शास्त्र व विदेशी भाषा एवं साइंस विषय पर राजनीति शास्त्र व गणित शास्त्र पर परीक्षा लेनी चाहिए । विशेष विषय पर परीक्षा की प्रश्नावाली तथा दाखिला के अवश्यक अंक उच्च शिक्षालयों या अनुसंधान संस्थानों द्वारा स्वयं तय की जाते हैं । लिखित परीक्षा के पास होने के बाद छात्रों को मौखिक परीक्षा दी जाती है । उच्च शिक्षालय और अनुसंधान संस्थान छात्रों के लिखित व मौखिक प्रश्नोंत्तर के परिणाम पर श्रेष्ठ वालों को दाखिला कराते हैं ।

डाक्टरी के लिए शोध छात्रों की दाखिला परीक्षा मुख्यतः दाखिला कराने वाले उच्च शिक्षालय और अनुसंधान संस्थान खुद देते हैं। जो छात्र को मास्टर की डिग्री मिली है , उस ने अपनी मास्टर शिक्षा के विषय पर डाक्टरी की दाखिला परीक्षा के लिए नाम दर्ज किया है , उसे मात्र विदेशी भाषा और अपने शोध विषय पर तीन लिखित व मौखिक परीक्षाएं लेने की जरूरत है । यदि जो छात्र अपने पूर्व शिक्षा विषय से परे अन्य विषय पर या मास्टर डिग्री के समान स्तर की शिक्षा पाने की हैसियत से डाक्टरी की डिग्री के लिए परीक्षा लेना चाहता हो , तो उसे पांच छै विषयों पर लिखित व मौखिक परीक्षा लेनी चाहिए ।

इधर के सालों से चीन में रोजगारी मिलने पर ज्यादा दबाव पड़ने के कारण शोध शिक्षा के लिए पंजीकृत होनो वाले छात्रों की संख्या में तेज वृद्धि होती जा रही है , इसे ध्यान में रखते हुए इस की दाखिला के लिए परीक्षा के अवश्यक अंक भी नीचे कर दिए गए है । इस के अलावा चीन में शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाया जाने के चलते शोध छात्रों को दाखिला कराने वाले उच्च शिक्षालयों और अनुसंधान संस्थानों का संबंधित अधिकार भी लगातार बढ़ता गया है ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories