सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

चीन रुस संबंध

2017-08-15 14:41:48
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

वर्ष 1949 के 2 अक्तूबर को चीन व सोवियत संघ के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना हुई। 1991 के अगस्थ में सोवियत संघ का विघटन हुआ । 27 दिसम्बर को चीन व रुस ने द्विपक्षीय वार्ता के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये , इस से चीन व भूतपूर्व सोवियत संघ के बीच राजनयिक संबंधों की समस्या का हल किया गया । वर्ष 2001 में,चीन व रुस के बीच रणनीतिक साझेदार संबंध एक नये स्तर तक पहुंचा । दोनों के बीच आपसी राजनीतिक विश्वास गहन किया जा रहा है तथा उच्च स्तरीय संपर्क घनिष्ट किया जाता रहा है। एक ही वर्ष में चीनी राष्ट्राध्यक्ष चांग ज मिन ने रुसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ तीन बार वार्ताएं कीं और छैः बार हॉट लाइन के जरिए फोन बातचीत कीं। दोनों राजाध्यक्षों द्वारा वर्ष 2001 में हस्ताक्षरित अच्छे पड़ोसी वाली मैत्रीपूर्ण सहयोग संधि और जारी किये गये संयुक्त वक्तव्य में दोनों देशों व दोनों देशों की जनता के बीच पीढ़ी दर पीढ़ी मैत्री बनाए रखने और हमेशा ही एक दूसरे को शत्रु नहीं मानने की शांतिपूर्ण विचारधारा को कानूनी रूप में निश्चित किया गया है।

वर्ष 2003 के 26 से 28 मई तक, चीनी राष्ट्राध्यक्ष हू चिन थाओ ने रुस की राजकीय यात्रा की।

इधर के वर्षों में चीन व रुस के द्विपक्षीय आर्थिक व व्यापार��क संबंधों तथा आर्थिक व तकनीक सहयोग दिन ब दिन घनिष्ट होता जा रहा है। दोनों देशों में संस्कृति, विज्ञान व तकनीक और शिक्षा आदि के क्षेत्रों में आवाजाही व सहयोग भी व्यस्त हो रहा है। इधर के वर्षों में दोनों देशों की ओर से चीनी नृत्य गान मंडली, शिंग च्यांग नृत्य गान मंडली, चीनी लेखक प्रतिनिधि मंडल, पेइचिंग की मेई लेई फांग पेइचिंग ऑपेरा मंडली और रुस की श्वेत शाल नृत्य गान मंडली, क्रेमलिन बाली मंडली, मस्को क्लासिकल बाली मंडली, सेन्ट पीटर्सबर्ग आर्चेस्ट्रल मंडली, मस्को के राजकीय सिन्फोनि मंडली आदि संस्थाओं ने एक दूसरे देशों की यात्रा की।

  चीन व रुस के बीच की सीमा की लम्बाई लगभग 4370 किलोमीटर हैं। दोनों दोशों के बीच इतिहास से छोड़ी गयी कुछ सीमा समस्याएं मौजूद हैं। दोनों ने मौजूदा सीमा संधि के आधार पर सर्वमान्य अंतरराष्ट्रीय कानूनी मापदंडों के अनुसार समानता व सलाह मश्विरा और आपसी समझ व रियायत की भावना से अनेक वर्षों की वार्ता के जरिए लगभग 97 प्रतिशत की सीमा रेखा को निश्चित किया है।

अब तक चीन व रुस के बीच सीमा के पूर्वी भाग में हेशाची द्वीप और अबातु टापू दोनों की सीमा रेखा निश्चित नहीं की गयी है। चीन व रुस न्यायपूर्ण व समानता और आपसी समझ व रियायत के सिद्धांत के आधार पर इन शेष सीमा समस्या का यथाशीघ्र ही पूरी तरह समाधान करेंगे।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories