सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

नव वर्ष की पूर्व संध्या की कहानी

2017-08-15 15:36:25
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी पंचांग के अनुसार, दिसम्बर की अंतिम रात नव वर्ष की पूर्व संध्या है। छ्वू का अर्थ मिटाना है, जबकि शी का अर्थ रात है। छ्वू शी का अर्थ इस वर्ष की अंतिम रात को मिटाना है और नव वर्ष का आगमन करना है। चीन में छ्वू शी का दूसरा नाम छ्वू येई, न्येन येई और न्येन सान शी है।

चीन में नव वर्ष की पूर्व संध्या से संबंधित अनेक रीति रिवाज है। उस दिन कमरे की साफ सफाई जरुरी है। नव वर्ष की पूर्व संध्या से कुछ दिनों से पहले ही, घर की पूरी तरह से साफ़ सफाई करनी होती है। नव वर्ष की पूर्व संध्या के दिन भी लोग घरों को और साफ़ करते हैं। यह रीति रिवाज एक पुरानी कहानी से संबंधित है। कहा जाता है कि पुराने समय में रेई श्वो का एक बेटा था, जो बहुत मेहनती नहीं था। नव वर्ष की एक पूर्व संध्या का वह ठंड और भूख से अपने घर में ही मर गया। इसलिए, नव वर्ष की पूर्व संध्या पर लोग साफ सफाई करते हैं और घर के फटे पुराने कपड़ों को नव वर्ष से पहले छोड़ते हैं, जिस का अर्थ यह है कि गरीबी घर में न आए।

साफ सफ़ाई के बाद, लोग अपने घरों के द्वार पर छ्वन ल्येन चिपकाते हैं और लाल लैंटन टांगते हैं। छ्वू शी के दिन, लोग थू सू नामक एक रस पीते हैं, जो शराब और पानी से बनाया जाता है। कहा जाता है कि थू सू नामक एक मकान में एक असामान्य व्यक्ति रहता था। वह अकसर पहाड़ों व जंगलों में जड़ी बुटी इकट्ठा किया करता था। हर बार नव वर्ष की पूर्व संध्या पर, वह अपने द्वारा बनायी गयी चीनी औषधि को आसपास के पड़ोसियों को भेजता था।यह औषधि रोगों को दूर करने में बहुत कारगर थी। इसलिए, लोगों ने इसे थू सू का नाम दिया। वास्त्व में थू सू सात जड़ी बूटियों द्वारा बनाया जाता था, जो रोगों से बचाने की भूमिका में काफी कारगर था। 

नव वर्ष की पूर्व संध्या पर परिवार के सभी लोगों द्वारा एक साथ मिलकर खाना खाना चीन के लगभग हर एक परिवार की परम्परागत आदत है। चीनी लोगों के लिए, चाहे वे कितनी भी दूर गये हों, उस रात घर वापस लौटकर एक साथ खाना खाना बहुत जरुरी है।

चीन के विभिन्न स्थलों में नव वर्ष की पूर्व संध्या का खाना भी भिन्न भिन्न है। दक्षिण चीन में लोग अकसर दस प्रकार का खाना खाते हैं, और तोफू और मछली खाना भी बहुत जरुरी है। चीनी शब्द में तोफू और मछली समृद्धि शब्द के उच्चारण के समान है। उत्तरी चीन में च्याओत्ज़ उस रात का प्रमुख भोज है। एक परिवार के लोग एक साथ च्याओत्ज़ बनाते हैं और च्याओ जी को उबले हुए पानी में पकाते हैं। च्याओ ज़ी मिलन का प्रतीक है।

नव वर्ष की पूर्व संध्या पर, लोग बच्चों के साथ अपने मित्रों के घर जाकर उपहार देते हैं। चीनी लोग इसे ख्वेई स्वेई कहते हैं। कुछ लोग दूसरों को अपने घर में रात्रि भोज पर आमंत्रित करते हैं। चीनी लोग इसे ब्येई स्वेई कहते हैं। खाना खाने के बाद, लोग एक दूसरे को बधाई देते हैं और अपने घर वापस लौटते हैं। इसे स्येई स्वेई कहते हैं। घर में जवान वृद्धों का कुशल क्षेम पूछते हैं, जबकि वृद्ध लोग जवानों को शुभकामनाएं देते हैं और बच्चों को पैसे देते हैं। चीनी लोग इसे सी स्वेई कहते हैं। रात को लोग अकसर देर तक जाग कर ताश खेलते हैं और नव वर्ष का आगमन करते हैं। चीनी लोग इसे शो स्वेई कहते हैं।

प्राचीन चीन के महा कवि लू योंग ने शो स्वेई नामक एक प्रसिद्ध कविता लिखी थी, जिस का मुख्य अर्थ है कि नव वर्ष की पूर्व संध्या पर बच्चे सब से ज्यादा खुश होते हैं। आम तौर पर बड़े लोग बच्चों की शरारती की आलोचना नहीं करते हैं। बच्चे भी लोग बड़ों की देखा देखी रात को नहीं सोते हैं और खुशी से नव वर्ष का आगमन करते हैं।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories