सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

छी छ्याओ त्योहार

2017-08-15 15:33:48
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी पंचांग के अनुसार, सात जुलाई को चीन का छी छ्याओ त्योहार मनाया जाता है। कहा जाता है कि उसी दिन आकाश में छ्येन न्यू (बैल पालक) और जी न्वू (कपड़ा बुनाने वाली लड़की) नामक दो तारों का मिलन दिन भी है।

पुराने समय में, आकाश बहुत नीला था, और एक भी रंगीन बादल आकाश में दिखाई नहीं पड़ता था, इसलिए, सम्राट ने अपनी सात बेटियों से आकाश के लिए एक कपड़ा बनाने के लिए कहा। लेकिन, सात बेटियों ने जो कपड़ा बनाया, वह या तो सफ़ेद था, या धुंधला था, लेकिन बहुत सुन्दर नहीं था। सम्राट की सब से छोटी बेटी एक बहुत निपुण लड़की थी। उस ने पता लगाया कि पार्क में सात रंगों वाले फूल खिले हुए हैं, उन का फलों को लाकर उस ने कपड़े पर लगाया। उस के प्रयास से, कपड़ा रंग बिरंगा और सुन्दर बन गया। सातों बेटियों ने यह निर्णय लिया कि दिन में वे आकाश को सफेद कपड़ा पहनाऐंगी, और वर्षा में आकाश को धुंधला कपड़ा पहनाएंगी, जबकि सुबह और शाम को वे लोग आकाश को रंगीन कपड़ा पहनाएंगी। सम्राट यह सब जानकार बहुत खुश था, और उस ने सब से छोटी बेटी को जी न्यू का नाम दिया। जी न्यू का अर्थ "कपड़ा बनने वाली लड़की"।

जी न्यू रोज़ाना कपड़ा बनती रहती थी। जब वह थक जाती, तो उसे अकसर आकाश के नीचे मनुष्यों को देखना पसंद था। मनुष्य के एक लड़के ने एक दिन उस का ध्यान खींचा। उस ने पता लगाया कि वह लड़का वास्तव में अकेला था, और आराम करते समय केवल बूढ़े बैल के साथ बातचीत कर पाता था। वह लड़का न्यू लांग ही था।

न्यो लांग एक बैल पालक था , वह गरीब था , पर एक खुशमिजाज युवा था , उस के साथ मात्र एक बूढ़ा बैल और जमीन को जीतने वाला एक हल था । न्यो लांग रोज खेत में परिश्रम करने जाता था , घर वापस आने पर खुद खाना बनाता था और कपड़े धौता था , जीवन काफी दूभर था , किन्तु अचानक एक दिन उस के जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन आया ।

एक दिन, बूढ़े बैल ने न्यू लांग से कहाः कल तो सात जुलाई है, सम्राट की सात बेटियां आकाश से नीचे आकर स्नान करेंगी। उस समय अगर तुम जी न्यू के कपड़ों को छिपादो तो वह तुम्हारी पत्नि बन सकती है। बूढ़े बैल की बातें सुनकर न्यू लांग ने ऐसा ही करने का निश्चय किया।

सात जुलाई का दिन आया और न्यू लांग नदी के आसपास की झाड़ियों में छिपकर बैठ गया। कुछ दैर बाद, उस ने देखा कि आकाश पर सात मेघ आये और हर एक मेघ पर एक परी खड़ी थी। उस ने देखा कि परियों ने कपड़े उतार कर नदी के तट पर रखे और साफ सुथरी नदी में कूद गयीं । न्यू लांग ने जी न्यू के कपड़ों को उठाया और घर की ओर वापस भागने लगा। सातों परियां यह देखकर तट पर आयी और अपने-अपने कपड़ों को पहनकरके आकाश की ओर उड़ने लगी। लेकिन, जी न्यू के पास कपड़ा नहीं था, इसलिए, उसे विवश होकर नदी के तट पर खड़े रहना पड़ा। न्यू लांग ने जी न्यू से कहा कि यदि जी न्यू उस से विवाह करेगी, तो वह जी न्यू को उस के कपड़े वापस कर देगा। जी न्यू ने देखा कि यह लड़का बहुत मनोहर था और ईमानदार भी था, तो उस ने उस की यह शर्त मान ली।

उसी रात, न्यू लांग एवं जी न्यू ने बैल की मध्यस्थता में विवाह किया। दो वर्षों में, जी न्यू ने एक बच्ची और बच्चे का जन्म दिया। परिवार बड़े आनंद के साथ जीवन बिताने लगा।

सात वर्ष गुजर गये। स्वर्ग लोक में एक दिन तो मनुष्य लोक के एक साल जितना ही लम्बा था। स्वर्ग लोक के सम्राट सातों दिन अपनी सातों बेटियों से मिलते थे। जब उन्हें पता लगा कि जी न्यू स्वर्ग लोक में वापस नहीं लौटी और उस ने मनुष्य के साथ विवाह कर लिया है, तो उन्हें बहुत क्रोध आया। सात जुलाई के दिन, सम्राट ने अपने जनरल भेजकर जी न्यू को पुनः स्वर्ग लोक में वापस बुला लिया। न्यू लांग बहुत दुखी हुए, दोनों नन्हें बच्चों को गोद में थामे वे जी न्यू को तलाश करने लगे। न्यू लांग के बूढ़े बैल ने न्यू लांग से कहा कि तुम मेरा वध कर दो, औऱ मेरे चमड़े को अपने शरीर पर ओढ लो, तो तुम आकाश में उड़ने के योग्य हो सकते हो और स्वर्ग पहुंचकर जी न्यू से मिल सकते हो। न्यू लांग ने विवश होकर बड़े दुख से बूढ़े बैल की बात मान ली। बूढ़े बैल के चमड़े को शरीर पर औढ़े अपने दो बच्चों को दो थैलों में उठाकर न्यू लांग स्वर्ग लोक की ओर उड़ा। बच्चे मा मा पुकार रहे थे। न्यू लांग और बच्चों की आवाज़ सुनकर जी न्यू ने अपने पति और बच्चों से मिलने की कोशिश की।लेकिन, सम्राट ने आकाश से एक भारी हाथ उठाकर उन के बीच एक चौड़ी नदी बना दी। अचानक आकाश में अनेक पक्षी आए और इस नदी पर एक पुल बना दिया।

इसी तरह, न्यू लांग और जी न्यू ने इस पुल पर मुलाकात की। इस के बाद सम्राट ने यह अनुमति दी कि हर वर्ष की सात जुलाई की रात, न्यू लांग और जी न्यू पक्षियों द्वारा बनाये पुल पर मुलाकात कर सकते हैं।

इस तरह धीरे धीरे सात जुलाई का दिन चीनी लोगों के लिए एक त्योहार बन गया। उस दिन, लड़कियां रंगीन सूतों को सात सुईयों से गुजारने की कोशिश करती हैं। यदि वे सफल हो, तो निपुण लड़की मानी जाती हैं। कहा जाता है कि बच्चे इस दिन रात को न्यू लांग और जी न्यू प्रेमियों की बातचीत सुन सकते हैं।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories