ली खछ्यांग ने 16वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लिया

2021-10-28 18:02:25

चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने 27 अक्टूबर की शाम को ग्रेट हॉल ऑफ़ द पीपुलस में 16वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लिया। आसियान देशों के नेता, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापानी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने सम्मेलन में भाग लिया। ब्रुनेई सुल्तान हसनल ने सम्मेलन की अध्यक्षता की। सम्मेलन वीडियो के माध्यम से आयोजित हुआ।

ली खछ्यांग ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कुछ समय पहले ही "वैश्विक विकास पहल" पेश किया। वैश्विक आर्थिक विकास के एक महत्वपूर्ण इंजन के रूप में, पूर्वी एशिया को महामारी के मुकाबले और अर्थव्यवस्था की बहाली समेत दो मुद्दों को बढ़ावा देना चाहिए, ताकि वैश्विक विकास में निरंतर प्रेरणा मिल सके।

ली खछ्यांग ने कहा कि पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन को हमेशा अपने स्थान पर कायम रहना, क्षेत्रीय सहयोग की सही दिशा को संभालना और संतुलित तरीके से राजनीतिक सुरक्षा सहयोग और आर्थिक व सामाजिक विकास को बढ़ावा देना चाहिए। संप्रभुता और प्रादेशिक अखंडता का आपसी सम्मान करना अंतरराष्ट्रीय संबंधों का बुनियादी मानदंड है और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन का एक महत्वपूर्ण मार्गदर्शक सिद्धांत भी है। सभी पक्षों को आपसी सम्मान और एकता व सहयोग पर कायम रहना चाहिए, महामारी के मुकाबले व बहाली में निवेश बढ़ाना चाहिए, क्षेत्रीय शांति व स्थिरता बनाए रखना चाहिए और विकास व समृद्धि को बढ़ावा देना चाहिए।

इस कारण से, चीन ने निम्नलिखित सुझाव दिये कि पहला, महामारी से लड़ने के लिए हाथ मिलाएं। दूसरा, व्यापक आर्थिक बहाली को बढ़ावा दें। तीसरा, हरित विकास को बढ़ावा दें। चौथा, आसियान के केंद्रीय स्थान का समर्थन करें।

ली खछ्यांग ने जोर देकर कहा कि चीन और आसियान देशों के संयुक्त प्रयासों से दक्षिण चीन सागर की समग्र स्थिति स्थिर बनी हुई है। चीन और आसियान देशों ने जल्द से जल्द प्रभावी और वास्तविक क्षेत्रीय नियमों को प्राप्त करने पर सहमति जतायी। और "दक्षिण चीन सागर संबंधी पक्षों की व्यवहार घोषणा" को पूरी तरह और प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है। चीन विभिन्न पक्षों के साथ एकता को मजबूत करने, सहयोग का विस्तार करने, सामान्य विकास को बढ़ावा देने, समृद्धि और स्थिरता हासिल करने और पूर्वी एशियाई सहयोग में नया अध्याय जोड़ने को तैयार है।

सम्मेलन में "निरंतर बहाली पर वक्तव्य", "मानसिक स्वास्थ्य सहयोग पर नेताओं का वक्तव्य" और "पर्यटन की बहाली से आर्थिक विकास पाने पर नेताओं का वक्तव्य" समेत दस्तावेज पारित किए गए।

(मीनू)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270