सच्चे बहुपक्षवाद की दृढ़ता के साथ रक्षा करता है चीन

2021-10-27 19:37:29

"हमें संयुक्त राष्ट्र के प्राधिकार और स्थान की दृढ़ता से रक्षा करनी चाहिए, और संयुक्त रूप से सच्चे बहुपक्षवाद का अभ्यास करना चाहिए," चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 25 अक्तूबर को संयुक्त राष्ट्र में चीन लोक गणराज्य की कानूनी सीट की बहाली की 50वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित स्मृति सम्मेलन में भाषण देते हुए यह बात कही। उन्होंने एक बार फिर "दुनिया को किस तरह की अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की जरूरत है?" इस प्रमुख मुद्दे पर चीन के सैद्धांतिक रूख की व्याख्या की और बल देते हुए कहा कि चीन बहुपक्षवाद के रास्ते पर चलता है और हमेशा अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था का रक्षक बना रहेगा। वर्तमान युग की पृष्ठभूमि में राष्ट्रपति शी के उपरोक्त निष्कर्षों का मजबूत व्यावहारिक महत्व है। 

वर्तमान में विश्व शांति और विकास के सामने कई चुनौतियां मौजूद है। कुछ पश्चिमी देश तथाकथित "नियमों" और "बहुपक्षवाद" के बैनर तले अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को मनमाने ढंग से नष्ट करते हैं, टकराव और विभाजन को भड़काते हैं, दूसरों पर उनकी इच्छा और मानक थोपना चाहते हैं, जिनसे  संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों को गंभीर प्रभाव पड़ा।

अपने भाषण में राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने एक बार फिर बल देते हुए कहा कि दुनिया के सभी देशों को सम्मानपूर्वक रवैया अपनाते हुए संयुक्त राष्ट्र के बड़े परिवार की रक्षा करनी चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय नियम केवल संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देशों द्वारा बनाया जा सकते हैं, और व्यक्तिगत देश या देशों के समूहों द्वारा तय नहीं किए जा सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र के नियमों को 193 सदस्य देशों द्वारा पालन किया जाना चाहिए, इसमें कोई अपवाद नहीं होना चाहिए। राष्ट्रपति शी चिनफिंग के इन स्पष्ट निष्कर्षों ने "सच्चे बहुपक्षवाद" के अर्थ को और समृद्ध किया और संयुक्त राष्ट्र के प्राधिकार और स्थान की रक्षा में चीन की शक्ति का संचार किया। ब्राजील के विधिशास्त्र प्रोफेसर एवांड्रो मेनेजेस डी कार्वाल्हो ने टिप्पणी करते हुए कहा कि चीन हमेशा से बहुपक्षवाद और अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित संयुक्त राष्ट्र के कोर वाली अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था का समर्थक और प्रवर्तक रहा है। 

वर्तमान में चाहे महामारी से लड़ रहा हो, जलवायु परिवर्तन का मुकाबला कर रहा हो, या विश्व अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे रहा हो, और वैश्विक विकास असंतुलन को दूर कर रहा हो, चीन हमेशा संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व वाले बहुपक्षीय ढांचे के माध्यम से अपनी भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध रहा है। जलवायु परिवर्तन के मुकाबले को उदाहरण लें, चीन ने "कार्बन उत्सर्जन की शिखर पर पहुंच" और "कार्बन तटस्थता" की समय सारणी का वादा किया, जो अंतरराष्ट्रीय समुदाय में एक आदर्श मिसाल बन गयी है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि चीन संयुक्त राष्ट्र का एक विश्वसनीय भागीदार और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का मुख्य आधार है।

"मानव जाति के साझे भाग्य वाले समुदाय" के निर्माण की अवधारणा को संयुक्त राष्ट्र के निर्णय में लिखा गया, "बेल्ट एंड रोड" पहल को 140 से अधिक देशों और 30 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। चीन के प्रस्ताव युग की धारा और दुनिया के अधिकांश देशों की शांति और विकास की मांगों के अनुरूप हैं। जैसे कि संयुक्त राष्ट्र अर्थतंत्र और समाज परिषद के अध्यक्ष मुनीर अकरम ने कहा चीन सच्चे बहुपक्षवाद की वकालत करता है, यह रास्ता दुनिया भर में अधिकांश देशों के लिए आकर्षक है।

(श्याओ थांग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270