चीन के संबंध में ब्रिटिश अधिकारियों के गलत बयानों का खंडन- चीनी प्रतिनिधि

2021-02-23 15:18:30

जिनेवा में स्थित चीनी प्रतिनिधिमंडल के प्रवक्ता ल्यू य्वीयिन ने 22 फरवरी को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार की उच्च स्तरीय बैठक में शिनच्यांग, तिब्बत और हांगकांग संबंधित मुद्दों पर ब्रिटेन और अन्य देशों द्वारा गलत बयानों का खंडन किया।

उन्होंने कहा कि मानवाधिकार का उपयोग राजनीतिक उद्देश्य के लिए सेवा नहीं करनी चाहिए, और साथ ही दूसरे देशों के बदनाम करने और उसके विकास को बाधित करने का साधन नहीं बनाया जाए। मानवाधिकार परिषद में झूठ और धोखे का कोई स्थान नहीं है। लेकिन खेद की बात है कि ब्रिटेन, जर्मनी, डेनमार्क, फिनलैंड और अन्य देशों ने मानवाधिकार परिषद के उच्च स्तरीय बैठक मंच का दुरुपयोग कर चीन के बारे में झूठी जानकारी फैलाने, धब्बा लगाने और चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए कहा। चीन ने अपना कड़ा विरोध और पूरी तरह से अस्वीकृति जतायी है।

प्रवक्ता ल्यू य्वीयिन ने कहा कि शिन्च्यांग और तिब्बत जैसे अल्पसंख्यक जातीय क्षेत्र चीन के मानवाधिकारों के विकास की आदर्श मिसाल हैं। चीन जातीय समानता, जातीय एकता, जातीय क्षेत्रीय स्वायत्तता की प्रणाली और सभी जातीय समूहों की आम समृद्धि के आधार पर जातीय नीति का अनुसरण करता है। विभिन्न जातियों के लोग चीनी राष्ट्र के बड़े परिवार के बराबर सदस्य हैं। शिनच्यांग में तथाकथित "मजबूर श्रम" और "जबरन नसबंदी" के आरोप बिलकुल निराधार है, जो पश्चिमी राजनीतिज्ञों द्वारा गढ़े गए झूठ हैं। चीन दुनिया भर के लोगों का स्वागत करता है कि वे शिनच्यांग का दौरा करें और एक ही समय में नज़र डालें। साथ ही, हम अपराध की धारणा के तथाकथित "जांच" का दृढ़ता से विरोध करते हैं।

प्रवक्ता ने कहा कि हांगकांग के राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के लागू होने के बाद से लेकर अब तक, हांगकांग में अव्यवस्थित स्थिति से और शासन तक परिवर्तन हो चुका है। हांगकांग के लोगों को अब अशांति और हिंसा से खतरा होने की जरूरत नहीं है, और वे सुरक्षित माहौल में अपने कानूनी अधिकारों और स्वतंत्र का उपभोग करते हैं। हांगकांग कानूनी शासन वाला एक समाज है, कोई भी कानून से ऊपर नहीं हो सकता है। इस बात पर जोर देने की जरूरत है कि“चीन-ब्रिटिश संयुक्त घोषणा-पत्र”ने किसी भी बाहरी ताकत को हांगकांग के मामलों में हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं दिया है।

प्रवक्ता ल्यू य्वीयिन ने कहा कि चीन ब्रिटेन और अन्य देशों से आग्रह करता है कि वे अपने स्वयं के मानवाधिकारों के मुद्दों को हल करने पर ध्यान दें, मानवाधिकारों के मुद्दों का राजनीतिकरण करना बंद करें, झूठी सूचनाओं का उपयोग कर दूसरे देशों को बदनाम करना बंद करें, सही मायने में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारों के स्वस्थ विकास में योगदान दें। अपने स्वयं के राजनीतिक उद्देश्यों की सेवा के लिए मानव अधिकारों के मुद्दों का दुरुपयोग न करें।

(श्याओ थांग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270