पिछले पाँच सालों में तिब्बत में शहरीकरण दर 32 प्रतिशत तक बढ़ी

2021-02-04 17:12:02

पिछले पाँच सालों में तिब्बत में शहरीकरण दर 32 प्रतिशत तक बढ़ी_fororder_139718658_16123506021441n

तिब्बती पंचांग का नया साल और पारंपरिक वसंतोत्सव आने वाले हैं। तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की राजधानी ल्हासा के त्वेलोंग दछिंग जिले में तोंगका समुदाय में लाभांश वितरण समारोह आयोजित किया गया। साल 2020 में सामुदायिक सामूहिक आर्थिक लाभ 4 करोड़ 5 लाख युआन था, जिनमें एक करोड़ युआन का नागरिकों के साल के अंत में लाभांश के रूप में उपयोग किया जाता है। और कुछ राशि का लोगों के सामाजिक बीमा और चिकित्सा बीमा के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

पहले तोंगका एक गांव था, शहरीकरण विकास के चलते यह सामुदायिक क्षेत्र के रूप में विकसित हुआ। पिछले पाँच सालों में तिब्बत में शहरीकरण विकास लगातार बढ़ रहा है, और शहरी गतिविधियां दिन-प्रति-दिन संपूर्ण होने लगी हैं।“13वीं पंचवर्षीय योजना”(साल 2016 से 2020 तक) की अवधि के शुरु में तिब्बत में शहरीकरण दर केवल 27 प्रतिशत थी, पाँच सालों के विकास के चलते अब यह दर 32 प्रतिशत तक पहुंच गई। वर्तमान में पूरे स्वायत्त प्रदेश में शहरों और कस्बों में आबादी 10.7 लाख से अधिक हो गई। तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में अभी-अभी सार्वजनिक किए जाने वाली “14वीं पंचवर्षीय योजना” परियोजना के मुताबिक, आने वाले पाँच सालों में तिब्बत में शहरीकरण दर 40 प्रतिशत से अधिक होगी।

पिछले पाँच सालों में तिब्बत में शहरीकरण दर 32 प्रतिशत तक बढ़ी_fororder_139718658_16123506022161n

कई विशेषज्ञों के विचार में शहरीकरण भविष्य में तिब्बत के आर्थिक सामाजिक विकास का महत्वपूर्ण वृद्धि बिंदु बन जाएगा। बताया गया है कि शहरीकरण प्रक्रिया और विशिष्ट कस्बे के विकास को आगे बढ़ाने के लिए तिब्बत के विभिन्न शहरों ने व्यापारिक निवेश और सामाजिक पूंजी को आकर्षित करने वाला तरीका अपनाया, अब तक 26 विशिष्ट कस्बे के निर्माण में 8.6 अरब युआन का निवेश किया गया है। जातीय संस्कृति को प्रदर्शित करने, विशेषता पर्यटन को विकसित करने, अवकाश समय में छुट्टी लेने और सीमा व्यापार रसद को एकीकृत करने वाले चीथांग और छ्व्यीज़खा जैसे कई विशिष्ट कस्बों का निर्माण किया गया है।

(श्याओ थांग)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270