आपके बच्चे की देखभाल कौन कर सकता है?

2021-01-21 19:18:40

आपके बच्चे की देखभाल कौन कर सकता है?_fororder_u=2825686306,2492879783&fm=26&gp=0

दोस्तों, बच्चे को जन्म देने के बाद उसकी देखभाल करने के लिये कोई सहायक नहीं मिलने के कारण विवश होकर इस्तीफ़ा देना पड़ेगा, और ठीक इसी कारण से दूसरे बच्चे का जन्म देने को छोड़ना पड़ेगा...... यह प्रसव उम्र वाले बहुत से जोड़ों के लिये एक बड़ी समस्या है। और व्यापक रूप से दो-बाल नीति को लागू किये जाने के बाद यह स्थिति और गंभीर हो गयी।

बच्चे को जन्म देने के बाद कौन इसकी देखभाल कर सकेगा? और कैसे करेगा? हाल ही में चीनी परिवार नियोजन संघ द्वारा आयोजित चीन की आबादी व विकास मंच में बच्चों के देखभाल में मौजूद मुश्किलों की चर्चा की गयी।

तीन वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों व शिशुओं की संख्या 4.7 करोड़ तक जा पहुंची, लेकिन किंडरगार्टन के लिये भर्ती दर केवल 5 प्रतिशत है

किंडरगार्टन की सेवा पर्याप्त नहीं है। यह बच्चों की देखभाल में चिंता पैदा होने और बच्चों को जन्म देने की इच्छा कम होने का महत्वपूर्ण कारण है। चीनी जनसंख्या और विकास अनुसंधान केंद्र के अध्यक्ष हो डान ने कहा कि इस केंद्र द्वारा की गयी जांच-पड़ताल के परिणाम से पता चला है कि उन परिवारों, जिनमें 0 से 3 वर्ष तक उम्र वाले बच्चे होते हैं, में 30 प्रतिशत परिवारों को बच्चों की देखभाल करने की सेवा चाहिये। उन में 90 प्रतिशत परिवारों में बच्चों की उम्र 2 से 3 वर्ष तक है। लेकिन चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य समिति द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार चीन में 0 से 3 वर्ष तक उम्र वाले बच्चों की किंडरगार्टन में भर्ती दर केवल 5 प्रतिशत है।

हो डान ने कहा कि वर्तमान में मौजूदा किंडरगार्टनों के 20 प्रतिशत सरकारी किंडरगार्टन हैं, बाकी अधिकतर निजी किंडरगार्टन हैं। निजी संस्थानों में संचालन को सुनिश्चित करने के लिये दाम ज्यादा महंगा है। इसलिये इसे स्वीकार करने वाले परिवारों की संख्या केवल एक तिहाई से कम है।

चीनी राष्ट्रीय विकास व रूपांतरण कमेटी के सामाजिक विकास विभाग के प्रधान ओ श्याओली ने परिचय देते हुए कहा कि चीन में 3 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों व शिशुओं की संख्या 4.7 करोड़ से अधिक है। और हर वर्ष 1.5 करोड़ नवजात पैदा होते हैं। लेकिन संबंधित सेवा केवल आरंभिक चरण में है। साथ ही महामारी निरंतर रूप से इस पर कुप्रभाव डाल रही है। लंबी दृष्टि से देखा जाए, तो सेवा व्यवस्था के निर्माण में बड़ी कमी, सार्वजनिक संस्थाओं के सामने ऊंची लागत से पैदा दबाव और मानव संसाधन का अभाव आदि चुनौतियां सामने आयी हैं।

शहरों में रहने वाले बच्चों की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले बच्चे शायद और कमजोर हो गये। चीनी विकास अनुसंधान कोष के अध्यक्ष ली वेई ने परिचय देते हुए कहा कि इस कोष और चीनी राष्ट्रीय महिला संघ द्वारा गरीब क्षेत्रों में रहने वाले पाँच हजार से अधिक बच्चों व शिशुओं में की गयी जांच पड़ताल के परिणाम से यह जाहिर हुआ है कि 86.4 प्रतिशत बच्चों व शिशुओं को प्रारंभिक पोषण व देखभाल की सेवा नहीं मिली। उन के परिवार का वातावरण भी बहुत खराब है।

ली वेई ने कहा कि अधिकतर गरीब क्षेत्रों में वातावरण बच्चों के बड़े होने के लिये लाभदायक नहीं है। अगर सार्वजनिक नीति का अभाव है, तो गरीबी शायद अगली पीढ़ी में भी जारी रहेगी।

संयुक्त नीति लागू करने से बच्चों की सेवा व्यवस्था स्थापित हो रही है

0 से 3 वर्ष तक की उम्र बच्चों व शिशुओं के प्रति बड़े होने का एक महत्वपूर्ण चरण है। उन्हें अच्छी तरह से देखभाल करना नागरिकों की गुणवत्ता को उन्नत करने, और अर्थव्यवस्था व समाज के समन्वित विकास के लिये महत्वपूर्ण आधारभूत भूमिका अदा करता है। साथ ही, गरीबी दूर करने और सामाजिक निष्पक्षता को मजबूत करने के लिये उस का विशेष सामाजिक महत्व भी है।

बच्चों की देखभाल में मौजूद मुश्किलों को दूर करने के लिये वर्ष 2019 के अप्रैल में चीनी राज्य परिषद के कार्यालय ने "3 वर्ष से कम आयु के शिशुओं और बच्चों के लिए देखभाल सेवाओं के विकास को बढ़ावा देने पर मार्गदर्शक राय" जारी की। वर्ष 2020 तक शिशुओं व बच्चों के लिये देखभाल सेवाओं की नीति व कानून व्यवस्था और मापदंड व्यवस्था आरंभिक रूप से स्थापित की गयी और कुछ मॉडल संस्थाओं का निर्माण भी किया गया।

मार्गदर्शक राय को लागू करने के लिये संबंधित विभागों ने संयुक्त रूप से काम किया है। चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य समिति के उपाध्यक्ष यू श्वएज्वून ने परिचय देते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य समिति ने संबंधित विभागों के साथ अनुसंधान करके शिशुओं व बच्चों को देखभाल करने वाली संस्थाओं की स्थापना के मापदंड, प्रबंध की नीति-नियम और पंजीकरण उपाय आदि सिलसिलेवार नीति-नियम जारी किये, और समावेशी बाल-देखभाल सेवाओं को विकसित करने के लिये सामाजिक बलों का समर्थन देने की विशेष कार्रवाई की।

चीनी परिवार नियोजन संघ व अन्य विभिन्न स्तरीय परिवार नियोजन संघों ने जनता समूहों व संगठनों की भूमिका व श्रेष्ठता से लाभ उठाकर व्यापक रूप से गुणवत्ता उर्वरता का प्रसार-प्रचार किया, शिशुओं व बच्चों के लिये देखभाल व सेवा मॉडल की स्थापना की, और सूरजमुखी नामक योजना लागू करके ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के विकास को मजबूत किया।

चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य समिति के जनसंख्या की निगरानी व पारिवारिक विकास विभाग के प्रधान यांग वनज्वान ने कहा कि मार्गदर्शन राय जारी होने के डेढ़ साल में केवल उद्योग व वाणिज्य मंत्रालय में पंजीकृत बाल-देखभाल उद्यमों की संख्या तो बिते दस वर्षों में तीन गुना हो गयी। विकास का रुझान भी बहुत अच्छा है।

यू श्वेएज्वून ने परिचय देते हुए कहा कि चीन के विभिन्न क्षेत्र सक्रिय रूप से अभ्यास कर रहे हैं, और शिशुओं व बच्चों की देखभाल करने के लिये विविध सेवा पैटर्न का विकास भी किया गया है। यह सेवा व्यवस्था धीरे-धीरे स्थापित हो रही है।

14वीं पंचवर्षीय योजना का मौका पकड़कर समावेशी बाल-देखभाल सेवा का विकास करें

14वीं पंचवर्षीय योजना में समावेशी बाल-देखभाल सेवा व्यवस्था का विकास, बच्चे का जन्म, पालन और शिक्षा देने की लागत कम करना पेश किया गया। चीनी जनसंख्या व विकास अनुसंधान केंद्र के पूर्वानुमान के अनुसार 14वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान पैदा होने वाली जनसंख्या 13वीं पंचवर्षीय योजना की अपेक्षा हर वर्ष 20 लाख कम होगी। यह बाल-देखभाल सेवा व्यवस्था के निर्माण को मजबूत करने के लिये शर्त बनाएगा।

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270