जी-20 वैश्विक पुनरुत्थान में योगदान देता है

2020-11-22 19:03:39

कोविड-19 महामारी से विश्व अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रभाव पड़ा। जी-20 द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार अर्थव्यवस्था का पुनरुत्थान करने के लिए जी-20 ने 11 खरब डॉलर का खर्च किया, जो लगभग जापान के जीडीपी की दो गुणा है। महामारी की रोकथाम करने के लिए जी-20 ने सार्वजनिक स्वास्थ्य में 21 अरब डॉलर का दान भी दिया।

जी-20 में चीन ने सबसे पहले महामारी का प्रभाव दूर किया। महामारी फैलने के बाद चीन ने क्रमशः विश्व स्वास्थ्य संगठन को 5 करोड़ डॉलर का दान दिया और 2 अरब युआन का विशेष कोष स्थापित किया। इसके अलावा, चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन और विभिन्न देशों को तमाम चिकित्सा सामग्रियों की सहायता की। इससे मानव स्वास्थ्य समुदाय बनाने और महामारी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने में चीन की जिम्मेदारी दिखाई गयी।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 21 नवंबर की रात पेइचिंग में वीडियो कॉंफ्रेंस के जरिए जी-20 के शिखर सम्मेलन के पहले चरण में भाषण देते हुए महामारी के बाद के युग में चीन के चार विचार प्रस्तुत किये। ये चार विचार हैं, संयुक्त राष्ट्र संघ से केंद्रित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था मजबूत की जाये, आर्थिक वैश्वीकरण के शासन ढांचे में सुधार किया जाये, डिजिटल अर्थव्यवस्था का स्वस्थ विकास बढ़ाया जाये और वैश्विक चुनौतियों के मुकाबले में क्षमता उन्नत की जाये। इन चार विचारों ने महामारी के बाद के युग में वैश्विक शासन के लिए रास्ता दिखाया।

चीन हमेशा विश्व शांति का निर्माता है, विश्व विकास का योगदान देने वाला है और अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की रक्षक है। महामारी के बाद के युग में चीन लगातार विभिन्न पक्षों के साथ वैश्विक शासन व्यवस्था में सुधार बढ़ाएगा। जैसा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि अनिश्चित दुनिया में चीन दृढ़ता से बहुपक्षवाद, निष्पक्षता और न्याय की रक्षा करता है। चीन दुनिया को निश्चितता, विश्वास और आशा देता है।

(ललिता)

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270