अंदरूनी मसलों में हस्तक्षेप से नहीं थमेगा चीन के विकास का पहिया

2020-11-20 16:55:33

अंदरूनी मसलों में हस्तक्षेप से नहीं थमेगा चीन के विकास का पहिया

चीन लगातार विकास कर रहा है, कोरोना के दौर में भी चीन के विकास का पहिया रुका नहीं है। लेकिन चीन के विकास और प्रगति में बाधाएं पैदा करने की कोशिशें जारी हैं। बात चाहे हांगकांग के मुद्दे पर चीन को घेरने की हो या फिर शिन्च्यांग के मसले पर। यहां तक कि थाईवान मुद्दे को उछालकर भी कुछ देश चीन में अस्थिरता पैदा करने की कोशिश करते हैं। जैसा कि चीन बार-बार कहता आया है कि ये सभी मामले उसके अंदरूनी मुद्दे हैं। इनमें बाहरी ताकतों को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। यह वैसा ही है जैसा कि अमेरिका व अन्य देशों के आंतरिक मामलों में अगर चीन या कोई दूसरा देश टाँग अड़ाने की कोशिश करे।

हम देखते आए हैं कि कुछ पश्चिमी देश बार-बार चीन को कमज़ोर करने के लिए उसके भीतरी मामलों को उठाते हैं। लेकिन चीन लगातार प्रगति के रास्ते पर अग्रसर है, यह कोरोना वायरस महामारी के दौर में भी साफ नज़र आया है। जहां विश्व के अधिकांश देश महामारी की वजह से आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। वहीं इस चुनौती भरे माहौल में भी चीन की जीडीपी में इजाफा हुआ है, जो दुनिया के लिए एक शुभ संकेत है।

हालांकि इस बीच फाइव आईज़ अलाएंस यानी अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड व ब्रिटेन आदि देशों के गठबंधन ने हांगकांग के मुद्दे पर चीन पर आरोप लगाया है। चीन ने इन देशों को उन्हीं की भाषा में जवाब देने की कोशिश की है। चीनी विदेश मंत्रालय के मुताबिक, चीन दूसरों के लिए परेशानी खड़ी करने की कोशिश नहीं करता है और न ही दूसरों की बातों से डरता है।

वैसे यह कोई पहला मौका नहीं है जब अमेरिका व अन्य सहयोगी देशों ने चीन पर आक्षेप लगाया हो। इससे पहले भी हांगकांग में स्वतंत्रता के बहाने हस्तक्षेप की कोशिश की गयी, जिसे चीन ने पूरी तरह से खारिज कर दिया।

चीन का कहना है कि जो देश उसके आंतरिक मसलों में टाँग अड़ाते हैं, उनका असली इरादा विश्व और क्षेत्रीय आधिपत्य हासिल करना है। लेकिन चीन का विश्व शांति व विकास का मिशन थमने वाला नहीं है।

अनिल पांडेय

लोकप्रिय कार्यक्रम
रेडियो प्रोग्राम
रेडियो_fororder_banner-270x270