Web  hindi.cri.cn
    चीनी वरिष्ठ भिक्षु के शरीरावशेष श्रीलंका में हैं
    2017-05-12 14:48:57 cri

    चीनी बौद्ध धर्म के वरिष्ठ भिक्षु पेनहुएं के शरीरावशेष 11 मई को बुद्धपूर्णिमा दिवस के दौरान श्रीलंका में हमेशा के लिए रखे गये। चीनी बौद्ध धर्म संघ के उपाध्यक्ष इन शुन ने प्रतिनिधि मंडल लेकर इस समारोह में भाग लिया।

    11 मई की सुबह चीनी बौद्ध धर्म, तिब्बती बौद्ध धर्म और हीनयान बौद्ध धर्म के भिक्षुओं की देखरेख में चीनी बौद्ध धर्म प्रतिनिधि मंडल कोलंबो में स्थित गंगाराम मंदिर के विनय मंच में उपस्थित हुआ। महाभिक्षु इन शुन ने एक पवित्र बोतल, जिसमें वरिष्ठ भिक्षु पेनहुएं के शरीरावशेष हैं, मंच पर ताखे पर रखे गए।

    उस रात श्रीलंकाई प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बैसाख दिवस मनाने के लिये भाग लेने वाले नेताओं ने गंगाराम के विनय मंच पर आकर श्रद्धांजलि दी।

    गंगाराम मंदिर श्रीलंका के केंद्र में स्थित है। वह श्रीलंका,थाईलैंड, भारत और चीन की भवन निर्माण शैली में बनी मिश्रित इमारत है, जो श्रीलंका में सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है।

    गंगाराम मंदिर के मठाधीश ने बताया कि चीनी महाभिक्षु पेनहुएं के शरीरावशेष यहां रखे जाना सदा से श्रीलंकाई जनता की रक्षा करेगा और चीन-श्रीलंका बौद्ध जगतों के आपसी मेलजोल को बढ़ाएगा।

    वरिष्ठ भिक्षु पेनहुएं की आयु 106 वर्ष की थी। उन्होंने 20 से अधिक देशों में बौद्ध धर्म का प्रचार किया। उनके अनुयायियों की संख्या 30 लाख से ज्यादा है। उन्होंने बौद्ध धर्म के प्रचार और परोपकारी कार्य बढ़ाने के लिए असाधारण योगदान दिया था, जिसकी भूरि भूरि प्रसंशा की गयी।

    (वेइतुङ)

    © China Radio International.CRI. All Rights Reserved.
    16A Shijingshan Road, Beijing, China. 100040